Assembly Banner 2021

तमिलनाडु: DMK नेता ई वी वेलु के ठिकानों पर लगातार दूसरे दिन पड़े IT के छापे

 डीएमके के वरिष्ठ नेता और तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार ईवी वेलु

डीएमके के वरिष्ठ नेता और तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार ईवी वेलु

Tamil Nadu Assembly Elections द्रमुक ने छापेमारी को 'राजनीतिक रूप से प्रेरित' और सत्ता का 'दुरुपयोग' करार देते हुए इसकी निंदा की. पार्टी ने इसके लिए सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक और उसके गठबंधन साझेदार भाजपा को इसके लिए जिम्मेदार बताया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 11:54 AM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु में विधानसभा चुनाव (Tamil Nadu Assembly Elections) से पहले इनकम टैक्स के छापे भी लगातार पड़ रहे हैं. आयकर विभाग (Income Tax Department) के अधिकारियों ने शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन डीएमके के वरिष्ठ नेता और तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार ईवी वेलु (E V Velu) के ठिकानों पर छापेमारी की थी. इससे पहले आयकर विभाग के अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को ई वी वेलु से जुड़े अलग-अलग ठिकानों पर छापे मारे थे.

द्रमुक ने छापेमारी को 'राजनीतिक रूप से प्रेरित' और सत्ता का 'दुरुपयोग' करार देते हुए इसकी निंदा की. पार्टी ने इसके लिए सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक और उसके गठबंधन साझेदार भाजपा को इसके लिए जिम्मेदार बताया. सूत्रों ने बताया कि संदिग्ध चैक्स चोरी के मामले में छापेमारी सुबह शुरू हुई. वेलु का संबंध तमिलनाडु के तिरुवन्नमलई जिले से है.

ये भी पढ़ें:- कपड़े धोकर, नारियल तोड़ और डोसा बनाकर लुभाने का प्रयास कर रहे प्रत्याशी



आयकर विभाग ने संकेत दिये कि छापे की कार्रवाई के बारे में जल्द ही बयान जारी किया जा सकता है. द्रमुक के महासचिव दुरईमुरुगन ने कहा कि आयकर अधिकारियों ने तिरुवन्नमलुई में वेलु के आवास तथा उसने संबंधित अन्य ठिकानों पर छापे मारे. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम के स्टालिन के बाद दूसरे नंबर की हैसियत रखने वाले दुरईमुरुगन ने कहा, 'द्रमुक इस छापेमारी को राजनीतिक रूप से प्रेरित मानती है.'

उन्होंने कहा कि आयकर विभाग ने एक कॉलेज समेत वेलु के एक गेस्ट हाउस पर भी छापेमारी की, जहां स्टालिन ठहरे हुए हैं. ये निंदनीय है. दुरईमुरुगन ने कहा कि ये कार्रवाई द्रमुक का मनोबल नहीं गिरा सकती, उल्टा इससे केवल सहानुभूति तथा वोट हासिल होंगे. द्रमुक नेता ने कहा कि अन्नाद्रमुक ने भाजपा नीत केंद्र सरकार के साथ मिलकर छापेमारी का षड़यंत्र रचा क्योंकि सत्तारूढ़ पार्टी को अपने सामने करारी हार दिखाई दे रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज