कोविड-19: लॉकडाउन में दिल्ली मेट्रो को 1 हजार करोड़ का नुकसान, अब अनलॉक 3.0 से उम्मीदें

एक दिन में लगभग 18 लाख यात्री दिल्ली मेट्रो में यात्रा करते हैं (फाइल फोटो, PTI)

दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) शहर की जीवन रेखा है. इसका प्रबंधन देने वाली संस्था- DMRC के पास 300 रेलगाड़ियां हैं, जो आठ लाइनों पर परिचालन करती हैं, जो लगभग 5,000 चक्कर लगाती हैं और एक दिन में लगभग 18 लाख यात्रियों (passengers) को ले जाती हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोविड-19 लॉकडाउन (Covid-19 lockdown) के कारण पिछले चार महीनों से निष्क्रिय (inoperative) पड़ी दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) को लगभग 1,000 करोड़ रुपये का राजस्व नुकसान हुआ है. मनीकंट्रोल ने सूत्रों के हवाले से बताया, “DMRC (दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन) हर दिन 10 करोड़ रुपये कमाता है. अब तक उसे कुल 1,000 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान (revenue loss) हुआ है."

    मेट्रो सेवा (Metro Service) शहर की जीवन रेखा है. इसका प्रबंधन देने वाली संस्था- DMRC के पास 300 रेलगाड़ियां (trains) हैं, जो आठ लाइनों पर परिचालन करती हैं, जो लगभग 5,000 चक्कर लगाती हैं और एक दिन में लगभग 18 लाख यात्रियों (passengers) को लाती-ले जाती हैं. मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि डीएमआरसी (DMRC) के राजस्व में बड़े पैमाने पर गिरावट देखी गई है, क्योंकि वाणिज्यिक और खुदरा लीज (commercial and retail leases) से होने वाली उसकी आय भी कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौरान बिल्कुल खत्म हो गई.

    DMRC के किरायेदारों ने भुगतान आगे बढ़ाने के लिए लिखा पत्र
    डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने संस्था के रेवेन्यू मॉडल के बारे में मनीकंट्रोल को बताया कि रिटेल और कमर्शियल प्रॉपर्टी सहित उसके किरायेदारों का कारोबार भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है. उन्होंने बताया, “उन्होंने हमें किराये के भुगतान को आगे बढ़ाने के लिए पत्र लिखा है. हम इसके बारे में सरकारी दिशानिर्देशों पर विचार कर रहे हैं.“

    जून के पहले सप्ताह से, सरकार अर्थव्यवस्था को चरणबद्ध तरीके से अनलॉक करते हुए प्रतिबंधों में ढील दे रही है, लेकिन अब तक मेट्रो रेल सेवाओं, सिनेमाघरों, जिम और स्कूलों के बारे में कोई बात नहीं कही गई है.

    1 अगस्त से शुरू होगी अनलॉक-चरण 3 की प्रक्रिया
    राष्ट्रीय राजधानी में पॉजिटिव मामलों की घटती संख्या के बावजूद, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि क्या मेट्रो को अनलॉक-चरण 3 में संचालन फिर से शुरू करने की अनुमति दी जाएगी, जो 1 अगस्त से शुरू होना है.

    प्रोटोकॉल पर जोर देते हुए- सामाजिक दूरी और साफ-सफाई की प्रक्रिया का पालन किया जाएगा, दयाल ने यह भी कहा कि नेटवर्क को फिर से खोलने का निर्णय सरकार को करना है.

    DMRC कैसे कर सकता है नुकसान की भरपाई?
    मेट्रो परियोजनाओं में स्थिर राजस्व के दो स्रोत होते हैं - किराया, जो राजस्व का लगभग 80 से 90 प्रतिशत हिस्सा होता है- जिसमें टिकटों की बिक्री, पास, बिक्री शामिल होते हैं. और दूसरा स्रोत गैर-किराया राजस्व है, जो 10 से 20 प्रतिशत होता है और इसमें डीएमआरसी की जमीन पर वाणिज्यिक और खुदरा पट्टों से होने वाली आय शामिल हैं.

    कोलियर्स इंटरनेशनल इंडिया में वैल्यूएशन सर्विसेज के प्रबंध निदेशक अजय शर्मा ने मनीकंट्रोल को बताया, ''हालांकि,ट्रेनें नहीं चल रही हैं लेकिन लागतें निश्चित हैं- जैसे नेटवर्क और वेतन देते रहना. शर्मा ने कहा कि मेट्रो की सवारी को बढ़ावा देकर, मेट्रो के चक्कर बढ़ाकर और नए कॉरिडोरों पर हो रहे निर्माण कार्यो में तेजी लाकर नुकसान के एक निश्चित हिस्से की भरपाई की जा सकती है. इसके अलावा कुछ अन्य तरीकों से भी इसकी भरपाई हो सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.