• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना का तीन बार शिकार हुई डॉक्टर, दो बार वैक्सीन लेने के बाद हुआ संक्रमण

कोरोना का तीन बार शिकार हुई डॉक्टर, दो बार वैक्सीन लेने के बाद हुआ संक्रमण

डॉक्टर सृष्टि हलारी बताती हैं कि तीनों बार कोरोना का शिकार होने के बाद बहुत हल्के लक्षण नजर आए थे.(फोटो सौ. न्यूज18 इंग्लिश)

डॉक्टर सृष्टि हलारी बताती हैं कि तीनों बार कोरोना का शिकार होने के बाद बहुत हल्के लक्षण नजर आए थे.(फोटो सौ. न्यूज18 इंग्लिश)

Coronavirus in India: डॉक्टर सृष्टि हलारी पहली बार 17 जून 2020 को पॉजिटिव आई थीं. सृष्टि बताती हैं कि बीएमसी के मुलुंड स्थित कोविड सेंटर में काम करने के दौरान वो कोविड का शिकार हो गई थीं. उन्होंने बताया कि एक सहकर्मी को कोविड-19 होने के चलते उन्हें भी कोरोना संक्रमण हुआ था.

  • Share this:
    मुंबई. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के जुड़ा एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है. खबर है कि मुंबई के उपनगरीय इलाके मुलुंड में रहने वाली 26 साल की एक डॉक्टर कोविड-19 (Covid-19) का तीन बार शिकार हो चुकी हैं. इतना ही नहीं बताया जा रहा है कि वो दो बार तो वैक्सीन लेने के बाद संक्रमित हुई हैं. हालांकि, एक्सपर्ट्स इसके कई कारण बता रहे हैं. वहीं, कोरोना महामारी शुरू होने के बाद से दुनिया के कई हिस्सों में चिकित्सकों के दोबारा संक्रमित होने के कई मामले सामने आ चुके हैं.

    टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टर सृष्टि हलारी पहली बार 17 जून 2020 को पॉजिटिव आई थीं. सृष्टि बताती हैं कि बीएमसी के मुलुंड स्थित कोविड सेंटर में काम करने के दौरान वो कोविड का शिकार हो गई थीं. उन्होंने बताया कि एक सहकर्मी को कोविड-19 होने के चलते उन्हें भी कोरोना संक्रमण हुआ था. इसके बाद 29 मई और 11 जुलाई को भी RT-PCR रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

    यह भी पढ़ें: बच्चों के लिए अगले महीने आ सकती है कोरोना वैक्सीन- स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने BJP सांसदों को बताया

    रिपोर्ट के अनुसार, डॉक्टर्स का कहना है कि SARS2 वेरिएंट्स से लेकर उनकी इम्युनिटी और गलत डायग्नॉस्टिक रिपोर्ट जैसे कई कारण हो सकते हैं. फिलहाल, जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए उनके स्वाब सैंपल एकत्र किए गए हैं. दोबारा संक्रमण की बात को तब तक साबित नहीं किया जा सकता, जब तक दो या दो से ज्यादा संक्रमण के स्वाब सैंपल की जेनेटिकली सीक्वेंसिंग का इस्तेमाल कर तुलना नहीं की जाती.

    डॉक्टर हलारी की तीन पॉजिटिव रिपोर्ट्स को लेकर उनका इलाज कर रहे डॉक्टर मेहुल ठक्कर का कहना है, 'यह एक गलत RT-PCR रिपोर्ट या मई में हुए दूसरे संक्रमण का मामला हो सकता है, जो जुलाई में दोबारा सक्रिय हो गया.' डॉक्टर हलारी बताती हैं कि तीनों बार कोरोना का शिकार होने के बाद बहुत हल्के लक्षण नजर आए थे. फाउंडेशन फॉर मेडिकल रिसर्च की डायरेक्टर डॉक्टर नरगिस मिस्त्री ने कहा कि दोबारा कोविड संक्रमण होने के कई कारण हो सकते हैं. उन्होंने कहा, 'इसका एक कारण SARS-CoV-2 वायरस का नया वेरिएंट भी हो सकता है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज