होम /न्यूज /राष्ट्र /

लग्जरी लाइफ छोड़ संन्यासी बनेगी सूरत की रहने वाली डॉक्टर

लग्जरी लाइफ छोड़ संन्यासी बनेगी सूरत की रहने वाली डॉक्टर

डॉ. हिनाकुमारी हिंगद

डॉ. हिनाकुमारी हिंगद

गोल्ड मेडल जीतने वाली डॉक्टर हिनाकुमारी ने अहमदनगर विश्वविद्यालय से एमबीबीएस की डिग्री ली है और पिछले तीन साल से प्रैक्टिसिंग डॉक्टर है

    मुंबई बेस्ड  डॉ. हिनाकुमारी हिंगद 18 जुलाई को सूरत में सांसारिक जीवन छोड़ कर जैन भिक्षु बन जाएगी. गोल्ड मेडल जीतने वाली डॉक्टर हिनाकुमारी ने अहमदनगर विश्वविद्यालय से एमबीबीएस की डिग्री ली है और पिछले तीन साल से प्रैक्टिसिंग डॉक्टर है.

    जैन आचार्य श्रीमद विजय यशोवर्मा सुरेश्वरजी महाराज के साथ हिनाकुमारी एक हजार किलोमीटर से अधिक की दूरी पैदल तय कर चुकी है. वह अपनी छह बहनों में सबसे बड़ी हैं.

    हिनाकुमारी का दीक्षा महोत्सव सूरत के विजयलक्ष्मी हॉल के पास जॉली रेजीडेंसी में 18 जुलाई को होगा. जबकि मंगलवार, 17 जुलाई 2018 को वेसु सोमेश्वर से उनकी वर्षीदान शोभायात्रा निकली.

    इससे पहले, एक 12 वर्षीय भव्या शाह ने अपने परिवार का त्याग दिया और हजारों लोगों और सैकड़ों भिक्षुओं की उपस्थिति में सूरत में आयोजित एक दीक्षा समारोह में जैन भिक्षुओं में शामिल हो गई.

    जैन भिक्षु बनी भव्या


    भव्या ने कहा था कि,  'पारिवारिक जीवन हर कदम पर पापों से भरा है, मैंने एक भिक्षु बनने का फैसला किया है ताकि मैं खुद को इस भौतिक संसार के पापों से दूर रख सकूं. यह मेरा फैसला है. भगवान द्वारा दिखाए गए सत्य के मार्ग पर चलने के अपने इस फैसले से मैं खुश हूं.'

     

    Tags: Gujarat

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर