'दुर्गा' देखी तो लड़की और 'गणेश' देखा तो लड़का, भ्रूण परीक्षण का यूं गोरखधंधा चला रहे डॉक्टर

हैदराबाद में भ्रूण परीक्षण के अवैध कारोबार से जुड़े कुछ लोग भगवान वेंटकेश्वर, साईं बाबा और कनक दुर्गा की तस्वीरों का इस्तेमाल कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 6:37 PM IST
'दुर्गा' देखी तो लड़की और 'गणेश' देखा तो लड़का, भ्रूण परीक्षण का यूं गोरखधंधा चला रहे डॉक्टर
भ्रूण परीक्षण के अवैध कारोबार (प्रतीकात्मक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 6:37 PM IST
भारत में 1994 में लिंग चयन प्रतिषेध अधिनियम (PNDT) कानून बनाया गया था. इस कानून के तहत गर्भस्थ शिशु का लिंग परीक्षण करना यानी ये पता करना कि होने वाला बच्चा लड़का है या लड़की, कानूनन अपराध है. इस कानून के तहत सजा का भी प्रावधान है. लेकिन इसके बावजूद तेलंगाना में कुछ डॉक्टर्स ने इसे अपना कारोबार बना लिया है. कानून से बचने के लिए ये डॉक्टर भ्रूण का लिंग बताने के लिए भगवान की तस्वीरों का सहारा ले रहे हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, हैदराबाद में भ्रूण परीक्षण के अवैध कारोबार से जुड़े कुछ लोग भगवान वेंटकेश्वर, साईं बाबा और कनक दुर्गा की तस्वीरों का इस्तेमाल कर रहे हैं. दरअसल, अस्पताल के स्कैनिंग रूम में कनक दुर्गा की एक तस्वीर लगाई गई है. गर्भवती महिला और उसके पति से इस तस्वीर को देखने के लिए कहा जाता है, जिसका मतलब होता है कि गर्भवती महिला के पेट में लड़की है.

गणेश की तस्वीर देखी तो लड़का
वहीं, साईं बाबा और भगवान गणेश की तस्वीर देखने लिए कहकर यह संकेत दिया जाता है कि गर्भवती के पेट में पल रहा बच्चा लड़का है. जांच-पड़ताल में पता चला है कि इसके लिए भ्रूण परीक्षण करने वाले डॉक्टर 10 से 30 हजार रुपये तक वसूल रहे हैं. इसका निर्धारण डॉक्टर के अनुभव और डायग्नोस्टिक सेंटर की जगह के आधार पर तय किया जाता है.

इन जगहों पर फैला अवैध कारोबार
भ्रूण परीक्षण का यह अवैध नेटवर्क हैदराबाद के शहरी इलाकों से लेकर गांवों तक फैला हुआ है. करीमनगर, नलगोंडा और महबूबनगर में भी भ्रूण परीक्षण का अवैध कारोबार किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- राज्यसभा में बोले अमित शाह- देश की इंच-इंच जमीन से बाहर निकाले जाएंगे घुसपैठिए
Loading...

ED की याचिका पर जवाब देने के लिए रॉबर्ट वाड्रा को मिला 2 हफ्ते का समय

महिंद्रा ने मानी सलाह, मीटिंग में प्लास्टिक की बोतल पर बैन
First published: July 17, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...