रामदेव के बयानों के विरोध में आज देशभर में 'ब्लैक डे' मना रहे हैं डॉक्टर

 रामदेव द्वारा सवाल उठाने जाने पर विवाद खड़ा हो गया है.

रामदेव द्वारा सवाल उठाने जाने पर विवाद खड़ा हो गया है.

रामदेव (Ramdev) द्वारा एलोपैथी पर की गई कथित टिप्पणी के विरोध में देशभर के डॉक्टर आज ब्लैक डे' मना रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. योग गुरु रामदेव (Ramdev) द्वारा एलोपैथी पर की गई कथित टिप्पणी के विरोध में देशभर के डॉक्टर आज 'ब्लैक डे' मना रहे हैं. उन्होंने आधुनिक चिकित्सा को 'बेकार' कहा था. विभिन्न चिकित्सा संघों ने रामदेव की कथित 'असंवेदनशील और अपमानजनक' टिप्पणियों के लिए 'बिना शर्त खुली सार्वजनिक माफी' की मांग की है. रामदेव ने कथित तौर पर कहा था कि कोरोना संक्रमण से ज्यादा आधुनिक मेडिसिन के चलते कोविड से लोगों की मौत हुई.

कोरोना वायरस संक्रमितों के इलाज में इस्तेमाल की जा रहीं कुछ दवाओं पर रामदेव द्वारा सवाल उठाने जाने पर विवाद खड़ा हो गया था. रामदेव ने कहा था, 'कोविड-19 के इलाज में एलोपैथी दवाओं के सेवन से लाखों लोगों की जान जा चुकी है.' रामदेव की इन टिप्पणियों का कड़ा विरोध हुआ, जिसके बाद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने उनसे 'बेहद दुर्भाग्यपूर्ण' बयान को वापस लेने को कहा.

रामदेव ने मजबूर होकर अपना बयान वापस ले लिया. अगले दिन उन्होंने भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) को खुला पत्र लिखकर 25 सवाल पूछे. उन्होंने पूछा कि क्या एलोपैथी से बीमारियों से स्थायी रूप से छुटकारा मिल जाता है.

Youtube Video

गुजरात के डॉक्टरों ने रामदेव के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिस से किया संपर्क

उधर गुजरात में डॉक्टरों का प्रतिनिधित्व करने वाले अहम संगठनों ने आधुनिक चिकित्सा पद्धति और उसके चिकित्सकों के विरुद्ध कथित रूप से अपमाननजक टिप्पणियां करने को लेकर योग गुरु रामदेव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करते हुए सोमवार को यहां अहमदाबाद पुलिस से संपर्क किया. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की गुजरात इकाई और अहमदाबाद मेडिकल एसोसिएशन के वरिष्ठ डॉक्टरों एवं पदाधिकारियों ने नवरंगपुरा पुलिस को अलग-अलग आवेदन दिए तथा रामदेव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

एलोपैथी और टीकों के खिलाफ टिप्पणियां कर रामदेव विवादों में घिर गए हैं. दोनों ही संगठनों ने पुलिस से रामदेव के विरुद्ध महामारी रोग अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करने की अपील की. पुलिस ने कहा कि उसे डॉक्टरों से ज्ञापन मिले हैं. पुलिस उपायुक्त (जोन-1) रवींद्र पटेल ने कहा, ‘....उन्होंने जो मुद्दा उठाया है, वह हमारे क्षेत्राधिकार के बाहर है.’ उन्होंने कहा कि कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गयी है.



पश्चिम बंगाल में रामदेव के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज

इसके साथ ही आईएमए की बंगाल इकाई ने योग गुरु रामदेव के खिलाफ उनकी इस कथित टिप्पणी के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि डॉक्टरों सहित कई कोविड-19 रोगियों की मौत हो गई क्योंकि आधुनिक दवाएं बीमारी का इलाज नहीं कर सकती हैं. संगठन ने कोलकाता के सिंथी थाने में शिकायत दर्ज कराई है जिसमें रामदेव पर महामारी के दौरान 'भ्रामक और झूठी जानकारी' देने के साथ जनता के बीच भ्रम पैदा करने का आरोप लगाया गया है.

आईएमए की बंगाल शाखा ने शुक्रवार को दर्ज शिकायत में कहा, 'रामदेव ने कहा है कि आधुनिक चिकित्सा पद्धति के कारण कोविड के मरीज अधिक पीड़ित हैं और मर रहे हैं, जो कोरोना वायरस का इलाज नहीं कर सकती. उन्होंने यह भी कहा है कि टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी 10,000 से ज्यादा डॉक्टरों की मौत हो चुकी है, जो कि बिल्कुल गलत है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज