ममता बनर्जी ने डॉक्‍टर्स डे पर किया अवकाश का ऐलान, डॉक्‍टर्स ने विरोध कर कही ये बात

ममता बनर्जी ने डॉक्‍टर्स डे पर किया अवकाश का ऐलान, डॉक्‍टर्स ने विरोध कर कही ये बात
डॉक्‍टर्स ने किया ममता बनर्जी के निर्णय का विरोध.

पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने 1 जुलाई को नेशनल डॉक्‍टर्स डे (National Doctors Day) के मौके पर राज्‍य में सरकारी अवकाश घोषित किया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने 1 जुलाई को नेशनल डॉक्‍टर्स डे (National Doctors Day) के मौके पर राज्‍य में सरकारी अवकाश घोषित किया है. इसकी घोषणा उन्‍होंने दो दिन पहले की थी. अब पश्चिम बंगाल डॉक्‍टर्स फोरम (WBDF) ने सीएम ममता बनर्जी के इस निर्णय का विरोध किया है. डॉक्‍टर्स का कहना है कि सरकार डॉक्‍टरों के सम्‍मान में अवकाश घोषित करने के बजाय स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को सुरक्षा देने पर ध्‍यान दे.

न्‍यूज18 से बात करते हुए WBDF के सचिव डॉ. कौशिक चौकी ने कहा, 'राज्य सरकार ने डॉक्टरों को सम्मानित करने और कोविड-19 योद्धाओं को सम्मानित करने के लिए 1 जुलाई को राज्य में अवकाश घोषित किया है. हालांकि महामारी के बीच में हम इस तरह की बयानबाजी को खारिज करते हैं.'

उन्‍होंने कहा, 'अगर राज्य सरकार वास्तव में डॉक्टरों को सम्मान देना चाहती है, तो उन्हें हर स्वास्थ्यकर्मी की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए. यह हमारी लंबे समय से की जा रही मांग है. डॉक्टर उस दिन युद्ध के मैदान में होंगे, जैसे किसी और दिन जान बचाने की कोशिश में होते हैं. हमने राज्य सरकार को सुझाव दिया है कि अगर वो सच में सम्मान अर्पित करना चाहती है, तो वो उन मेडिकल कॉलेज में चल रहे शिक्षण और प्रशिक्षण को सुनिश्चित करे, जहां कोरोना वायरस संक्रमितों और गैर कोरोना वायरस संक्रमितों का इलाज हो रहा है.'



चाकी ने कहा कि वह चाहते हैं कि ममता बनर्जी डॉक्टरों की संस्‍था से खुले दिमाग से मिलें. साथ ही यह सुनिश्चित करें कि सभी प्रकार के सामाजिक बहिष्कार को रोका जाए और डॉक्टरों की सुरक्षा, भलाई और आजीविका सुनिश्चित की जाए.





इससे पहले WBDF ने महामारी के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों की कार्य स्थितियों पर भी चिंता जताई थी. फोरम की ओर से कहा गया था, 'पिछले कुछ हफ्तों में अधिक से अधिक स्वास्थ्य कर्मचारियों में कोविड-19 पाया गया है. उनमें से कुछ गैर लक्षणी तौर पर संक्रमित हैं. इनमें से कई क्‍वारंटाइन में भी हैं. हम स्वास्थ्य और प्रशासनिक अधिकारियों से आग्रह करते हैं कि वे इस मामले को गंभीरता से देखें क्योंकि यह गंभीर चिंता का विषय है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading