Home /News /nation /

Domestic Violence: घरेलू हिंसा पर महिलाओं का हैरान करने वाला जवाब, पति की पिटाई को बताया सही

Domestic Violence: घरेलू हिंसा पर महिलाओं का हैरान करने वाला जवाब, पति की पिटाई को बताया सही

केंद्र शासित समेत कुल 14 राज्यों की 30 प्रतिशत महिलाओं ने प्रश्न के जवाब में पति की पिटाई को उचित ठहराया है.(फाइल फोटो)

केंद्र शासित समेत कुल 14 राज्यों की 30 प्रतिशत महिलाओं ने प्रश्न के जवाब में पति की पिटाई को उचित ठहराया है.(फाइल फोटो)

Domestic Violence,National Family Health Survey,NFHS : हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh ), केरल (Kerala), मणिपुर (Manipur), गुजरात (Gujarat), नागालैंड (Nagaland), गोवा (GOA), बिहार (Bihar), कर्नाटक, असम, महाराष्ट्र, तेलंगाना, नागालैंड और पश्चिम बंगाल में पुरुषों द्वारा महिलाओं को पीटने का प्रमुख कारण ससुराल वालों का अनादर करना है. पति द्वारा उठाए जाने वाले इस कदम को सबसे कम हिमाचल प्रदेश की महिलाओं ने सही ठहराया. हिमाचल प्रदेश की केवल 14.8 प्रतिशत महिलाओं को लगता है कि पति का पीटना सही है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (National Family Health Survey) के एक निष्कर्ष में घरेलू हिंसा (Domestic Violence) को लेकर हैरान करने वाले तथ्य सामने आए हैं. एनएफएचएस (NFHS) के सर्वेक्षण में पता चला कि केंद्र शासित समेत 14 राज्यों की करीब 30 प्रतिशत महिलाओं ने कुछ परिस्थितियों में अपने पति द्वारा पिटाई किए जाने को सही ठहराया है. रिपोर्ट के मुताबिक तीन राज्यों 75 प्रतिशत से अधिक महिलाओं ने पति के घरेलू हिंसा के कदम को उचित बताया है. जहां एक तरफ महिलाओं के सशक्तिकरण (women empowerment) की बातें हो रही है वहीं इस रिपोर्ट ने सबको हैरान कर दिया है.

    NFHS-5 के डेटा से पता चला है कि इन तीन राज्यों में तेलंगाना में 84 प्रतिशत, आंध्र प्रदेश में 84 प्रतिशत और कर्नाटक में 77 प्रतिशत से अधिक महिलाओं को लगता है कि उनके पति का उनको पीटना सही है. एनएफएचएस ने अपने सर्वेक्षण में महिलाओं से सवाल किया था कि क्या एक पति का अपनी पत्नी को मारना उचित है या फिर नहीं ?

    इन राज्यों में महिलाओं की प्रतिशत संख्या
    अगर डेटा में दूसरे राज्यों की बात करें तो मणिपुर की 66 प्रतिशत, केरल की 52 प्रतिशत, जम्मू-कश्मीर की 49 प्रतिशत महिलाओं को पुरुषों की अपनी पत्नियों की पिटाई करना सही लगता है. वहीं अगर महाराष्ट्र की बात करें तो यहां 44 प्रतिशत महिलाओं को और पश्चिम बंगाल में करीब 42 प्रतिशत महिलाओं को पति का पीटना सही कदम लगता है. पूरी रिपोर्ट का विश्लेषण करने पर घरेलू हिंसा पर हैरान करने वाला निष्कर्ष सामने आया.

    इन परिस्थितियों में पिटाई सही है
    केंद्र शासित समेत कुल 14 राज्यों की 30 प्रतिशत महिलाओं ने प्रश्न के जवाब में पति की पिटाई को उचित ठहराया है. जिन महिलाओं ने ऐसी कुछ परिस्थितियां भी बताई. महिलाओं ने कहा घर या बच्चों की उपेक्षा करना और अन्य कारणों के बीच ससुराल वालों के प्रति अनादर होना, बेवफा होने का संदेह, तर्क-वितर्क करना, यौन संबंध बनाने से इनकार करना, पति को बताए बिना बाहर जाना, घर की उपेक्षा करना और अच्छा खाना नहीं बनाना पर पति की पिटाई उचित है.

    यहां पिटाई का मुख्य कारण 
    हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, गुजरात, नागालैंड, गोवा, बिहार, कर्नाटक, असम, महाराष्ट्र, तेलंगाना, नागालैंड और पश्चिम बंगाल में पुरुषों द्वारा महिलाओं को पीटने का प्रमुख कारण ससुराल वालों का अनादर करना है. पति द्वारा उठाए जाने वाले इस कदम को सबसे कम हिमाचल प्रदेश की महिलाओं ने सही ठहराया. हिमाचल प्रदेश की केवल 14.8 प्रतिशत महिलाओं को लगता है कि पति का पीटना सही है.

    Tags: Crime News, Domestic violence, Women Empowerment

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर