ट्रंप ने भारत को दी धमकी, कहा- अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर ज्‍यादा टैक्‍स अब बर्दाश्‍त नहीं

ट्रंप ने ट्वीट किया, 'भारत काफी समय से अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर टैक्‍स वसूल रहा है. अब ये बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा.'

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 9:36 PM IST
ट्रंप ने भारत को दी धमकी, कहा- अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर ज्‍यादा टैक्‍स अब बर्दाश्‍त नहीं
ट्रंप ने ट्वीट किया, 'भारत काफी समय से अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर टैक्‍स वसूल रहा है. अब ये बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा.' (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 9:36 PM IST
अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने मंगलवार को ट्वीट करके भारत को टैरिफ लगाने पर धमकी दी है. ट्रंप ने ट्वीट किया, 'भारत काफी समय से अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर टैक्‍स वसूल रहा है. अब ये बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा.' इससे पहले ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अमेरिकी प्रोडक्‍ट्स पर लगाए गए शुल्‍कों को वापस लेने की बात कही थी.

डोनाल्‍ड ट्रंप इससे पहले भी लगा चुके हैं ऐसे आरोप

पिछले महीने जापान के ओसाका में G-20 समिट में पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड की मुलाकात से पहले ट्रंप ने एक ट्वीट करके भारत पर अधिक टैरिफ वसूलने का आरोप लगाया है. अमेरिकी राष्ट्रपति पहले भी भारत को 'टैरिफ किंग' कहकर बदनाम कर चुके हैं.

अन्य देशों में भारत से ज्यादा लगते हैं टैरिफ

भारत वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (WTO) में तय आयात शुल्क से भी बेहद कम वसूल कर रहा है. WTO में तय दर 40 फीसदी से अधिक है, लेकिन इंडस्ट्रियल गुड्स पर औसत आयात शुल्क 10.2 फीसदी ही लगाया जा रहा है, जबकि व्यापार भारित (वेटेड) शुल्क 5.6 फीसदी है. भारत कुछ वस्तुओं के आयात पर अधिक शुल्क (जैसे शराब पर 150% और ऑटो मोबाइल्स पर 75%) वसूल करता है, लेकिन कई अन्य देश इससे कहीं अधिक टैरिफ लगाते हैं. मसलन- जापान 736%, साउथ कोरिया 807% और अमेरिका 300% टैक्स लगाता है, जोकि भारत के 150% से बहुत अधिक है.

भारत के औसत आयात शुल्क की तुलना यदि दूसरे विकासशील देशों के साथ करें तो यह लगभग बराबर ही है. भारत औसतन 13.8 फीसदी टैक्स वसूल करता है तो अर्जेंटीना और साउथ कोरिया 13.7 और ब्राजील 13.4 फीसदी औसत आयात शुल्क लगा रहा है.

अमेरिका भी भारत से कई सामानों पर ज्यादा टैक्स है वसूलता
Loading...

भारत अगर कुछ सामानों पर अधिक टैक्स वसूल कर रहा है तो अमेरिका भी कई भारतीय उत्पादों के आयात पर अधिक शुल्क लगाता है. भारत शराब पर 150%, मोटरसाइकिल पर 50% और नेटवर्क राउटर्स, सेलफोन पार्ट्स पर 20 फीसदी आयात शुल्क लेता है तो अमेरिका भारतीय तंबाकू उत्पादों पर 350 फीसदी शुल्क लेता है. इसके अलावा मूंगफली पर 164% और फुटवियर पर 48 फीसदी टैक्स लेता है.

ये भी पढ़ें: अमेरिका में आई बाढ़, सड़कें डूबीं, व्हाइट हाउस में घुसा पानी

अमेरिका का भारत में निर्यात तेजी से बढ़ रहा है. यह अमेरिका में भारतीय निर्यात के मुकाबले अधिक गति से बढ़ा है. पिछले 2 साल (2017-18 और 2018-19) में अमेरिका का भारत में निर्यात 33.5% बढ़ा है, जबकि भारतीय निर्यात में 9.4 फीसदी की ही तेजी आई है.

अमेरिका भारत का जीएसपी दर्जा भी कर चुका है खत्म

मौजूदा टैरिफ वॉर की शुरुआत अमेरिका ने की है. इसने भारतीय एल्युमीनियम और स्टील पर आयात शुल्क बढ़ाने के बाद जीएसपी का दर्जा खत्म कर दिया. इसके बाद भारत 28 अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने को मजबूर हुआ.

ये है ट्रंप की भारत से चिढ़ने की असली वजह

बात ये है कि ट्रंप की नाखुशी टैरिफ से ज्यादा इस बात को लेकर है कि भारत अमेरिका से जितना सामान खरीदता है उससे अधिक उसे बेचता है. 2018 में दोनों देशों के बीच 142.1 अरब डॉलर का कारोबार हुआ, जिसमें भारत का सरप्लस 24.2 अरब डॉलर रहा. इसके अलावा, फरवरी में विदेशी निवेशकों के लिए नए ई-कॉमर्स नियमों और भारत में डेटा स्टोर करने की अनिवार्यता को लेकर भी ट्रंप की बेचैनी बढ़ी है, क्योंकि इन नियमों से भारत में मुनाफा कमा रहीं अमेरिकी कंपनियों की चुनौती बढ़ी है.

ये भी पढ़ें: फेसबुक-ट्विटर से खफा ट्रंप, समिट में नहीं दिया न्योता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 9:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...