भारत के टॉप बिजनेसमैन से मिले ट्रंप, कहा- आपके लिए कानूनों में ढील देंगे

भारत के टॉप बिजनेसमैन से मिले ट्रंप, कहा- आपके लिए कानूनों में ढील देंगे
हैदराबाद हाउस में मीटिंग करते पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रंप

डोनाल्‍ड ट्रंप ने भरोसा दिलाया कि अमेरिका में कारोबार करने के लिए उत्साहित भारतीयों के लिए वो कायदे-कानूनों के अंकुश और कम करते हुए नियमों में भी ढील देंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मंगलवार को भारत के टॉप व्यवसायियों से मुलाक़ात की. ट्रंप ने भरोसा दिलाया कि अमेरिका में कारोबार करने के लिए उत्साहित भारतीयों के लिए वो कायदे कानूनों के अंकुश और कम करते हुए कानूनों में भी ढील देंगे. ट्रंप ने कहा कि हम अमेरिकी अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए और अधिक विदेशी निवेशकों को मौका देना चाहते हैं. ट्रंप ने ये भी कहा कि अगर मैं चुनाव जीता तो हमारे (भारत-अमेरिका) बाज़ार 1000 पॉइंट ऊपर चले जाएंगे.

ट्रंप ने अपनी यात्रा के दूसरे दिन भारत की टॉप कंपनियों के मालिकों से मुलाक़ात में कहा कि दोनों देश एक बड़ी ट्रेड डील पर काम कर रहे हैं. हालांकि इस यात्रा में इस डील के बारे में किसी तरह का ब्योरा साझा नहीं किया जा रहा है. भारत यात्रा के बारे में राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, 'यहां आना मेरे लिए सम्मान की बात है. हमने भारत के साथ व्यापार की काफी बात की है. वे हमसे 3 अरब डॉलर मूल्य के हेलीकॉप्टर खरीदेंगे.' ट्रंप ने मोदी को एक बार फिर कड़ा प्रशासक और नेता बताया, लेकिन ये भी कहा कि वो दिल के काफी अच्छे इंसान हैं. ट्रंप ने कहा, 'हमने यहां नौकरियां सृजित कीं, उन्होंने वहां (अमेरिका) रोजगार सृजन किया है.'

'कोरोना वायरस से घबराइए नहीं'
डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी को जल्दी ही काबू कर लिया जाएगा क्योंकि चीन इस मामले में पूरी तत्परता और जोर-शोर से काम कर रहा है. भारतीय उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि खतरनाक विषाणु से निपटने को लेकर अमेरिका की करीब 2.5 अरब डॉलर खर्च करने की योजना है. ट्रंप ने कहा, 'चीन इस विषाणु को काबू में करने के लिए पूरी तत्परता के साथ काम कर रहा है. मैंने राष्ट्रपति शी (शी जिनपिंग) से बात की है. उनके सामने बड़ी कठिनाई है और फिलहाल ऐसा लगता है कि वे उसे लगातार काबू में कर रहे हैं...इसीलिए मुझे लगता है कि यह समस्या दूर होने जा रही है.' उन्होंने कहा कि अमेरिका में स्थिति नियंत्रण में है. अमेरिका भी अन्य देशों के साथ व्यापार करता है और चाहता है कि अन्य देश प्रसन्न, स्वस्थ और खुशहाल रहें.



 



 

'नौकरियों के सृजन पर दोनों देश गंभीर हैं'
ट्रंप ने कहा कि दोनों ही देश ऐसे व्यवसायों को आगे बढ़ाने पर सहमत हैं जो ज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजन कर सकें. उन्होंने कहा कि सरकारें रोजगार सृजन में केवल सहायता कर सकती हैं और वह निजी उद्योग है जो वास्तव में नौकरियां देता है. अमेरिका में नियमन के बारे में ट्रंप ने कहा कि कुछ नियमनों को सांविधिक प्रक्रिया से हटाया जाना है लेकिन उनकी सरकार कायदे-कानून की संख्या में कमी लाने को लेकर प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को जीतने जा रहे हैं, इससे बाजार में उछाल आएगा. ट्रंप ने कहा कि उनकी सरकार ने अर्थव्यवस्था, स्वास्थ्य और सैन्य क्षेत्र के लिए काफी कुछ किया है.

'हेल्थ पर खर्च बढ़ाए जाने की ज़रूरत'
हेल्थ सेक्टर पर सरकार की योजनाओं से जुड़े एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा- 'देखते हैं चीजें कैसे काम करती हैं लेकिन मुझे लगता है कि यह बेहतर होगा. मुझे इसकी उम्मीद है. हम कठिन मेहनत कर रहे हैं. हम इस पर काफी सारा पैसा भी खर्च कर रहे हैं....करीब 2.5 अरब डॉलर अतिरिक्त खर्च करने की योजना है. हम कोरोना वायरस के मुद्दे पर अन्य देशों की भी मदद कर रहे हैं जो इससे निपटने में सक्षम नहीं हैं.'

अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ बैठक में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन और आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला शामिल थे. बता दें कि चीन ने 31 दिसंबर 2019 को कोरोना वायरस के फैलाने की सूचना दी थी. चीनी अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि इसके कारण 2,592 लोगों की मौत हो गई है जबकि इससे पीड़ित मामलों की संख्या बढ़कर 77,000 पहुंच गयी है.

ये भी पढ़ें: 

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा- हेलिकॉप्टर समझौते से बढ़ेगी भारत की ताकत

भारत-US में 3 अरब डॉलर के डिफेंस डील पर सहमति, ट्रंप बोले-आतंक पर लगाम लगाए पाक

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading