• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • DOPT ISSUES SHOW CAUSE NOTICE ALAPAN BANDYOPADHYAY MAMATA BANERJEE APPOINTED CHIEF ADVISOR WEST BENGAL

केंद्र और बंगाल के बीच बढ़ी तकरार, दिल्ली नहीं आने पर अलपन बंदोपाध्याय को कारण बताओ नोटिसः सूत्र

अब एक बार फिर मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय (Alapan Bandyopadhyay) के तबादले पर विवाद है.

West Bengal Latest news: केंद्र की तरफ से 28 मई को नोटिस मिलने के बाद आज ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उनसे मुख्य सचिव को वापस बुलाने के केंद्र के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया था और कहा था कि उनकी सरकार शीर्ष नौकरशाह को कार्यमुक्त नहीं कर रही है.

  • Share this:
    कोलकाता. केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार के बीच टकराव खत्म होता नजर नहीं आ रहा है. थोड़ी देर पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamta Banerjee) ने मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय (Alapan Bandyopadhyay) को अपना मुख्य सलाहकार नियुक्त किया था और अब केंद्र ने उनके खिलाफ एक्शन लिया है. सरकारी सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) को रिपोर्ट करने में विफल रहने पर केंद्र सरकार ने बंदोपाध्याय को कारण बताओ नोटिस भेजकर जवाब मांगा है.

    दरअसल, केंद्र ने 28 मई की रात को बंदोपाध्याय की सेवाएं मांगी थीं और शीर्ष नौकरशाह को सोमवार (आज) सुबह 10 बजे दिल्ली में कार्यभार संभालने को कहा था. उन्होंने दिल्ली नहीं आने का फैसला लिया. केंद्र ने बंदोपाध्याय को दिल्ली बुलाने का आदेश चक्रवाती तूफान ‘‘यास’’ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की बैठक को मुख्यमंत्री द्वारा महज 15 मिनट में निपटाने से उत्पन्न विवाद के कुछ घंटों के बाद दिया था.

    ममता बनर्जी ने किया यह दावा
    केंद्र की तरफ से 28 मई को नोटिस मिलने के बाद आज ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उनसे मुख्य सचिव को वापस बुलाने के केंद्र के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया था और कहा था कि उनकी सरकार शीर्ष नौकरशाह को कार्यमुक्त नहीं कर रही है.


    ममता ने बताया कि उनके इस पत्र पर केंद्र का जवाब आया है जिसके मुताबिक बंदोपाध्याय को मंगलवार को नॉर्थ ब्लॉक में कार्यभार संभालने को कहा गया है. उन्होंने बताया कि केंद्र के पत्र में मुख्य सचिव को वापस बुलाए जाने की वजह का जिक्र नहीं किया गया है.
    First published: