होम /न्यूज /राष्ट्र /डॉ. अदिति का शोध बना प्रसिद्ध जनरल ‘साइंस’ का हिस्‍सा, दुनिया ने जाना बुंदेलखंड की धरती का दर्द

डॉ. अदिति का शोध बना प्रसिद्ध जनरल ‘साइंस’ का हिस्‍सा, दुनिया ने जाना बुंदेलखंड की धरती का दर्द

डॉ. अदिति गुप्‍ता यूरोप की सबसे प्रतिष्ठित शोध संस्थान क्रेग में शोध कार्य कर रही है. 

डॉ. अदिति गुप्‍ता यूरोप की सबसे प्रतिष्ठित शोध संस्थान क्रेग में शोध कार्य कर रही है. 

डॉ. अदिति गुप्‍ता ने बुंदेलखंड (Bundelkhand) के सूखे और किसानों की हालत पर एक शोध पत्र (Research Paper) तैयार किया है. ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. बुंदेलखंड (Bundelkhand) के सूखे की चर्चा अब भारत में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में शुरू हो गई है. दुनिया अब यह जानने में रुचि ले रही है कि आखिर प्रा‍कृतिक संसाधनों (Natural Resources) की मौजूदगी के बावजूद बुंदेलखंड की धरती सूनी क्‍यों हो गई. दुनिया में बुंदेलखंड के प्रति रुचि पैदा करने का श्रेय डॉ. अदिति गुप्‍ता पर जाता है. दरअसल, डॉ. अदिति गुप्‍ता (Dr. Aditi Gupta) ने बुंदेलखंड के सूखे और किसानों की हालत पर एक शोध पत्र तैयार किया है. उनके इस शोधपत्र को विश्व के सबसे बड़े व प्रतिष्ठित माने जाने वाले जनरल ‘साइंस’ ने भी प्रकाशित किया है.

    उल्‍लेखनीय है कि डॉ. अदिति गुप्‍ता यूरोप की सबसे प्रतिष्ठित शोध संस्थान क्रेग में शोध कार्य कर रही है. यह संस्‍थान स्‍पेन के स्पेन के बार्सिलोना शहर में स्थि‍त है. विशेषज्ञों का मानना है कि डॉ अदिति का यह शोधपत्र भीषण सूखे की विभीषिका से त्रस्त किसानों के लिये वरदान सा‍बित हो सकता है. उल्‍लेखनीय है कि डॉ. अदिति ने अपनी स्नातक स्तर की शिक्षा बुंदेलखंड के एक पिछड़े माने जाने बाले छोटे से कस्‍बे मऊरानीपुर से प्राप्त की. इसके उपरांत, उन्होंने इंदौर की प्रतिष्ठित देवी अहिल्या विश्‍वविद्यालय कैंपस के स्कूल ऑफ लाइफ साइंस से पोस्ट ग्रेजुएशन किया. इसके उपरांत दिल्ली स्थित जेएनयू के एआईपीजीआर (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लांट जेनोमी रिसर्च) से पीएचडी की.


    डॉ अदिति ने भारत सरकार की  रिसर्च फील्ड की देश की सबसे बड़ी इंस्पायर्ड फेलोशिप में चयनित होकर दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय में शोध कार्य किया. इसके उपरांत उनका चयन पोस्ट डॉक्टरल शोध हेतु वार्सिलोना स्थित विश्व के प्रतिष्ठित शोध संस्थान क्रेग में हुआ, जहां वह वर्तमान में शोधकार्य कर रहीं हैं. डॉ. अदिति को वर्ष 2016 -17 में  विज्ञान व शोध के क्षेत्र में मिलने वाले प्रतिष्ठित मिलेनियम साइंटिस्ट अवार्ड व यंगेस्टर साइंटिस्ट अवार्ड मिल चुका है. डॉ अदित गुप्ता के पति डॉ मंजुल सिंह जेनॉमिक्स क्षेत्र के वैज्ञानिक हैं, वह भी स्पेन के बार्सिलोना में प्रतिष्ठित मेरी क्यूरी फेलोशिप से शोधकार्य कर रहे हैं.





    यह भी पढ़ें:
    अमेरिका के बाद ब्रिटेन-फ्रांस ने चीन से पूछा- कैसे फैला कोरोनावायरस?
    कोरोना: सड़कों पर घूम-घूम कर ज़रुरतमंदों को खाना पहुंचा रहे हैं प्रिंस हैरी और मर्केल

    Tags: Barcelona, Bundelkhand, Craig, Dr. Aditi Gupta, Europe, General, Research, Science, Spain

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें