अपना शहर चुनें

States

चीन से मुकाबले के लिए तैनात सैनिकों को ठंड से बचाने के लिए DRDO ने बनाई खास डिवाइस

भारत और चीन के बीच पिछले साल मई से सीमा विवाद जारी है (सांकेतिक तस्वीर)
भारत और चीन के बीच पिछले साल मई से सीमा विवाद जारी है (सांकेतिक तस्वीर)

India-China Standoff: भारतीय सेना ने इस उपकरण के निर्माताओं को 420 करोड़ रुपये के ऑर्डर दिए हैं और उन्हें सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के सभी नए आवासों में तैनात किया जाएगा, जहां तापमान कम है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में चीन (China) से मुकाबला करने के लिए तैनात किए गए 50,000 सैनिकों के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने कई उत्पादों का विकास किया है. इनमें हिम-तापक ताप उपकरण और अत्यंत कम तामपान में बर्फ के पिघलने से सैनिकों को दुश्मनों से लड़ने में मदद करने के कई उपकरण शामिल हैं. हिमक तप स्पेस हीटिंग डिवाइस (बुखारी) पूर्वी लद्दाख, सियाचिन और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तैनात भारतीय सेना के लिए विकसित किया गया है और इन उपकरणों के लिए 420 करोड़ रुपये से अधिक का ऑर्डर दिया गया है. DRDO का डिफेंस इंस्टीट्यूट फॉर फिजियोलॉजी एंड अलाइड साइंसेज के निदेशक डॉ. राजीव वार्ष्णेय ने न्यूज एजेंसी एएनआई को ये जानकारी दी. उन्होंने कहा कि डिवाइस यह सुनिश्चित करेगा कि बैकब्लास्ट और कार्बन मोनोऑक्साइड विषाक्तता के कारण जवानों की मौत न हो.

डीआईपीएएस, जो अत्यधिक और युद्धकालीन वातावरण में मानव प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए शारीरिक और बायोमेडिकल अनुसंधान का आयोजन करता है, ने 'अल्कोल क्रीम' भी विकसित की है जो बेहद संवेदनशील क्षेत्रों में तैनात सैनिकों को शीतदंश और अन्य ठंड की चोटों को रोकने में मदद करती है. ठंड के तापमान में पीने के पानी की समस्या के समाधान के लिए इसने एक 'लचीली पानी की बोतल' और 'सोलर स्नो मेल्टर' भी विकसित किया है.

ये भी पढ़ें- चिकन के गिरे दाम, गरीब और कम आमदनी वाले लोग खरीद रहे हैं मुर्गा




420 करोड़ रुपये के उपकरणों के दिए गए ऑर्डर
डॉ वार्ष्णेय ने कहा कि सेना ने हिम तपाक के निर्माताओं को 420 करोड़ रुपये के ऑर्डर दिए हैं. वार्ष्णेय ने कहा, "भारतीय सेना ने इस उपकरण के निर्माताओं को 420 करोड़ रुपये के ऑर्डर दिए हैं और उन्हें सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के सभी नए आवासों में तैनात किया जाएगा, जहां तापमान कम है." उन्होंने कहा कि नए हीटिंग डिवाइस में डीआईपीएएस द्वारा विकसित पहले के उपकरणों से तीन सुधार हैं.

उन्होंने कहा, "हमने एक बेहतर स्पेस हीटिंग डिवाइस विकसित किया है जिसका नाम बुखारी है. इसमें तीन सुधार हैं. पहले इस उपकरण में तेल की खपत लगभग आधी है और हमारी गणना के अनुसार, हम एक साल में लगभग 3,650 करोड़ रुपये बचा पाएंगे. जल्द ही इसे सेना के सभी तैनाती बिंदुओं पर तैनात किया जाएगा.

उन्होंने आगे कहा कि "दूसरा, उच्च ऊंचाई पर, हवा की गति भी ज्यादा होती है. उस गति के साथ, एक बैकब्लास्ट होता है. इस डिज़ाइन के साथ, कोई बैकब्लास्ट नहीं होता है. भले ही कुछ हवा तेज आ रही हो, डिवाइस में तीन क्षैतिज डबल होते हैं- स्तरित प्लेटें जो हवा को काट सकती हैं, इसलिए कोई विस्फोट नहीं होता है. यह एक ब्लास्ट प्रूफ बुखारी है. तीसरा यह है कि डिवाइस 6 लीटर क्षमता का उपकरण है, और दहन 100 प्रतिशत है. इसलिए, कोई मौका नहीं है कि यह कार्बन मोनोऑक्साइड और अन्य खतरनाक गैसों का उत्पादन कर सके.

ये भी पढ़ें- NDRF को UN से अंतरराष्ट्रीय आपदा बचाव बल के तौर पर जल्द मिलेगी मान्यता
2 करोड़ क्रीम के जार भी किए गए ऑर्डर
डॉ. वार्ष्णेय ने 'अलोकल क्रीम' पर टिप्पणी करते हुए कहा, ''डीआरडीओ-विकसित ''अलोकल क्रीम '' जो अत्यधिक ठंड वाले क्षेत्रों में तैनात सैनिकों को शीतदंश, चिलब्लेन्स और अन्य ठंड की चोटों को रोकने में मदद करती है. हर साल, भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख, सियाचिन और अन्य क्षेत्रों में सैनिकों के लिए इस क्रीम के 3 से 3.5 लाख जार ऑर्डर करती है. हाल ही में हमें उत्तरी कमान से 2 करोड़ जार का आदेश मिला है."

वार्ष्णेय ने कहा कि डीआईपीएएस द्वारा विकसित 'लचीली पानी की बोतल' माइनस 50 से 100 डिग्री तक तापमान का सामना कर सकती है और बोतल के अंदर का पानी ठंड के कारण जम नहीं पाएगा. DRDO के वैज्ञानिक सतीश चौहान ने 'सोलर स्नो मेल्टर' के कामकाज के बारे में बताया कि "हमने एक लचीली पानी की बोतल विकसित की है, जिसमें अलग-अलग पानी के फिल्टर को एकीकृत किया गया है. यह माइनस 50 से 100-डिग्री तक तापमान का सामना कर सकती है. इसमें पानी फ्रीज नहीं होगा. आप फ़िल्टर को हटा सकते हैं और आप बोतल का इस्तेमाल कर सकते हैं. यह फ्रीज नहीं होगा. हमें सीआरपीएफ से 400 बोतलों का ऑर्डर मिला है."

उन्होंने कहा "पूर्वी लद्दाख और इसी तरह के अन्य क्षेत्रों में ठंड के तापमान में पीने के पानी की समस्याओं के मुद्दे को हल करने के लिए, हमने सियाचिन, खारदुंगला और तवांग क्षेत्रों में परीक्षणों के लिए सोलर स्नो मेल्टर मुहैया कराया है. इससे हर घंटे 5-7 लीटर पीने का पानी मिल सकता है."

उन्होंने कहा "यह सौर ऊर्जा पर काम करता है. डिवाइस सौर ऊर्जा को ट्रैक करने और बर्फ को पिघलाने के लिए ऊर्जा का उपयोग करता है और डिवाइस से जुड़ी पांच लीटर पानी की टंकी में शून्य से 40 डिग्री सेंटीग्रेड तक जमा होता है. वे टैंक में लगे नल का उपयोग करके पानी ले सकते हैं. यह लागत प्रभावी है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज