कोरोना वैक्सीन पर DCGI आज कर सकती है बड़ा ऐलान, 11 बजे बुलाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस

कोरोना वैक्सीन पर DCGI आज कर सकती है बड़ा ऐलान. (सांकेतिक तस्वीर_

1 जनवरी को भारत को पहली कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की खबर मिली, वहीं दूसरे ही दिन भारत (India) में बनी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन की. अब साल के तीसरे दिन भी कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ा ऐलान हो सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. नए साल की शुरुआत के साथ ही ऐसा अनुमान लगाया जाने लगा है कि देश बहुत जल्द कोरोना (Corona) से मुक्ती की ओर बढ़ सकता है. 1 जनवरी को जहां भारत को पहली कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) 'कोविशील्ड' की खबर मिली, वहीं दूसरे ही दिन भारत (India) में बनी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन 'COVAXIN' की. अब साल के तीसरे दिन भी कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ा ऐलान हो सकता है. केंद्र सरकार (Central Government) की ओर जानकारी दी गई है कि कोरोना वैक्सीन को लेकर डीसीजीआई आज एक बड़ा ऐलान कर सकती है. डीसीजीआई ने इसके लिए सुबह 11 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी बुलाई है.

    बता दें कि डीसीजीआई की प्रेस कॉन्फ्रेंस ऐसे समय में हो रही है जब केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति की ओर से शनिवार को ही भारत में स्वदेशी रूप से विकसित कोविड-19 रोधी वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के कुछ शर्तों के साथ आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने की सिफारिश हो चुकी है. बता दें कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 संबंधी एक विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने शुक्रवार को ऑक्सफोर्ड के कोरोना वायरस रोधी टीके के भारत में आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने की भी सिफारिश की थी. एसईसी की सिफारिश के साथ ही भारत में कोरोना की पहली वैक्सीन का रास्ता भी साफ हो गया था.



    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से भी इस बात की जानकारी दी गई है कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठ की विषय विशेषज्ञ समिति ने भारत में कोविशील्ड के सीमित आपातकालीन उपयोग के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को अनुमति देने की सिफारिश की है, जो कई नियामक शर्तों के अधीन है. बता दें कि कोवैक्सीन को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने भारत बायोटेक के साथ मिलकर विकसित किया है.

    इसे भी पढ़ें :- बड़ी खबर! कोविशील्ड के बाद एक्सपर्ट्स कमेटी ने दी स्वदेशी वैक्सीन 'COVAXIN' को मंजूरी

    भारत ने ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को किया अलग
    भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने शनिवार को कहा कि ब्रिटेन में सामने आये कोरोना वायरस के नये प्रकार (स्ट्रेन) का भारत ने सफलतापूर्वक 'कल्चर' किया है. 'कल्चर' एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके तहत कोशिकाओं को नियंत्रित परिस्थितियों के तहत उगाया जाता है और आमतौर पर उनके प्राकृतिक वातावरण के बाहर ऐसा किया जाता है. आईसीएमआर ने एक ट्वीट में दावा किया कि किसी भी देश ने ब्रिटेन में पाए गए सार्स-कोवी-2 के नए प्रकार को अब तक सफलतापूर्वक पृथक या ‘कल्चर’ नहीं किया है. आईसीएमआर ने कहा कि वायरस के ब्रिटेन में सामने आए नए प्रकार को सभी स्वरूपों के साथ राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान में अब सफलतापूर्वक पृथक और कल्चर कर दिया गया है. इसके लिए नमूने ब्रिटेन से लौटे लोगों से एकत्र किये गये थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.