लाइव टीवी

आतंकियों के मददगार DSP दविंदर सिंह को मिलने वाली थी तरक्की, एसपी बनने से पहले हुआ गिरफ्तार

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 2:10 PM IST
आतंकियों के मददगार DSP दविंदर सिंह को मिलने वाली थी तरक्की, एसपी बनने से पहले हुआ गिरफ्तार
अफजल गुरू ने अपने खत में डीएसपी देविंदर सिंह को लेकर सनसनीखेज आरोप लगाए थे

संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू (Afzal Guru) की पत्‍नी तबस्‍सुम ने भी आरोप लगाया कि दविंदर सिंह (Davinder Singh) ने उसके पति को छोड़ने के बदले में उससे एक लाख रुपये की मांग की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 2:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के कुलगाम में शनिवार को हिजबुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) के आतंकियों के साथ पकड़े गए डीएसपी दविंदर सिंह (DSP Davinder Singh) को लेकर हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस से जुड़े सूत्रों ने बताया कि डीएसपी दविंदर सिंह बहुत जल्द एसपी बनने वाला था और उसके प्रमोशन की फाइल भेजी जा चुकी थी. यही नहीं खबर है कि दविंदर सिंह पर अफजल गुरू की पत्‍नी तबस्‍सुम ने आरोप लगाया है कि दविंदर ने उसके पति को छोड़ने के बदले में उससे एक लाख रुपये की मांग की थी.

तबस्सुम ने दावा किया कि उसने सोने के जेवर बेचकर देविंदर सिंह को एक लाख रुपये दे भी दिए थे. तबस्सुम ने बताया कि दविंदर सिंह ने कहा, पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद को किसी भी तरह दिल्ली लेकर आए. सिंह ने मोहम्मद और उसके साथियों को दिल्ली तक पहुंचाने के लिए एक कार भी खरीदी थी. गौरतलब है कि अफजल गुरु ने साल 2004 में अपने वकील सुशील कुमार के माध्‍यम से कहा था कि उसने 5 पाकिस्‍तानी आतंकवादियों को रहने का ठिकाना मुहैया कराया था.

जल्द ही एसपी बनने वाला था दविंदर सिंह
जम्मू-कश्मीर पुलिस के सूत्रों के मुताबिक डीएसपी दविंदर सिंह का नाम उन अधिकारियों में शामिल था जिनका प्रमोशन होना था. दविंदर सिंह ने डेप्‍युटी सुपरिटेंडेंट के रूप में करीब 25 साल तक काम कर लिया था. सूत्रों के मुताबिक डीएसपी के नाम की फाइल प्रमोशन के लिए भेजी जा चुकी थी. हालांकि अभी तक क्योंकि प्रमोशन पाने वाले अधिकारियों के संबंध में कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया था, इसलिए अभी भी वह डीएसपी ही था. इससे पहले की दविंदर का प्रमोश होता उससे पहले ही उसे गिरफ्तार कर लिय गया.

इसे भी पढ़ें :- दविंदर सिंह पर J&K पुलिस की सफाई, गृह मंत्रालय की ओर से नहीं मिला है कोई मेडल

इस तरह हुई गिरफ्तारी
जम्मू-कश्मीर की पुलिस ने शनिवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान दो आतंकी और पुलिस ऑफिसर को जम्मू के कुलगाम ज़िले में गिरफ्तार किया था. ऑफिसर और आतंकी को उस वक्त पकड़ा गया, जब ये तीनों एक साथ एक कार में सवार होकर कहीं जा रहे थे. पुलिस सूत्रों के मुताबिक हिजबुल मुजाहिदीन के दो मोस्ट वांटेड आतंकी पीछे की सीट पर बैठा था, जबकि कार की ड्राइविंग सीट पर DSP दविंदर सिंह बैठे थे. पकड़े गए आतंकियों में हिजबुल का टॉप कमांडर नवीद बाबू भी शामिल है. वहीं दूसरे आतंकी की पहचान अल्ताफ के तौर पर हुई है. DSP के घर से छापेमारी के दौरान दो AK-47 राइफल्स और ग्रिनेड मिले हैं.इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर: आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह का अफजल गुरू ने भी लिया था नाम!

कौन हैं DSP दविंदर सिंह?
DSP दविंदर सिंह इन दिनों श्रीनगर एयरपोर्ट पर तैनात थे. इससे पहले वो जम्मू-कश्मीर पुलिस में एंटी हाईजैकिंग के सदस्य थे. इसके अलावा ये पुलिस ऑफिसर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) में इंस्पेक्टर रहे हैं. SOG रहते हुए भी उन्हें काफी प्रमोशन मिले थे. सफल एंटी-टेरर ऑपरेशन के बाद उन्हें DSP बनाया गया था. पिछले साल उन्हें 15 अगस्त को राष्ट्रपति से मेडल भी मिला था.

इसे भी पढ़ें :- डीएसपी दविंदर सिंह के बारे में अफजल गुरु ने अपने खत में क्या लिखा था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 1:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर