जज्बे को सलाम: लोग सुरक्षित रहें इसलिए सड़क पर तैनात हैं ये गर्भवति पुलिस अधिकारी

(फोटो: Twitter/@iam_anu12)

(फोटो: Twitter/@iam_anu12)

Coronavirus in India: छत्तीसगढ़ में एक इलाका है दंतेवाड़ा. माओवाद (Maoism) से प्रभावित इस इलाके में आपको डीएसपी शिल्पा साहू नजर आ जाएंगी. वे लगातार लोगों को कोविड की जानकारी दे रही हैं और नियमों का पालन करने की नसीहत दे रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 2:50 PM IST
  • Share this:
दंतेवाड़ा. कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर राज्य सरकारें सख्त हैं. आए दिन नए-नए क्षेत्रों में लॉकडाउन (Lockdown), नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) का पाबंदियों की घोषणा की जा रही है. कोविड काल में लगी इन पाबंदियों को मानना और नियमों का पालन करने की सबसे पहली जिम्मेदारी एक आम नागरिक की है. खतरे को जानते हुए लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं या मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की अनदेखी कर रहे हैं. ऐसे में कानून व्यवस्था को बनाए रखने की जिम्मेदार पुलिस लापरवाह लोगों को काबू करने में लगी है.

छत्तीसगढ़ में एक इलाका है दंतेवाड़ा. माओवाद से प्रभावित इस इलाके में आपको डीएसपी शिल्पा साहू नजर आ जाएंगी. वे लगातार लोगों को कोविड की जानकारी दे रही हैं और नियमों का पालन करने की नसीहत दे रही हैं. खास बात यह है कि साहू गर्भवती हैं, लेकिन उन्होंने इस बात का असर अपनी ड्यूटी पर नहीं पड़ने दिया है. मास्क पहने और हाथ में डंडा लिए वे अपने पुलिस साथियों के साथ मुस्तैद हैं.

डीएसपी की इन कोशिशों से अंदाजा लग जाना चाहिए कि हालात कितने खराब हैं. आम नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए पुलिसकर्मी भी अपनी जान जोखिम में डाले हैं. साहू लगातार लोगों से अपील कर रही हैं कि वे घर पर रहें. वे सड़क पर उनकी सुरक्षा के लिए मौजूद हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वे कहती हैं 'जो लोग बिना किसी खास कारण सड़कों पर बाहर आते हैं तो वो अपने शाथ दूसरों और खासकर घरवालों को खतरे में डाल रहे हैं.'


महाराष्ट्र में उठी जोखिम भत्ता दिए जाने की मांग

इधर, कोरोना वायरस से देश के सबसे प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में हालात और बिगड़ते जा रहे हैं. ऐसे में पुणे में काम कर रहे पुलिसकर्मियों ने मांग की है कि उन्हें डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की तरह विशेष जोखिम भत्ता मिले. उनकी इस मांग पर राज्य के डीजीपी ने भी समर्थन जताया है. उन्होंने वादा किया है कि वे राज्य सरकार के सामने इस मुद्दे को उठाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज