ई-रिक्शा चालक का बेटा कमल है गज़ब का बैले डांसर, ‘क्राउडफंडिंग’ से जुटा रहा लंदन के स्कूल की फीस

 कमल सिंह इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में बैले डांस का प्रशिक्षण लेने जाएंगे. (फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)
कमल सिंह इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में बैले डांस का प्रशिक्षण लेने जाएंगे. (फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

कमल सिंह (Kamal Singh) क्राउडफंडिंग (Crowdfunding) के जरिए अपने सपने को साकार करना चाहते हैं. 2019 में कमल ने रूस में बैले डांस का प्रशिक्षण (Ballet dance training) लिया और वहां एक आयोजन का नेतृत्व भी किया, आगे जाकर कमल अंतरराष्ट्रीय नृत्य मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहते हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 19, 2020, 12:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में ई-रिक्शा चलाने वाले पिता के 20 वर्षीय बेटे कमल सिंह (Kamal Singh) ने लंदन स्थित प्रतिष्ठित इंग्लिश बैले स्कूल (English Ballet School) में प्रशिक्षण पाठ्यक्रम की फीस जुटाने के लिए क्राउडफंडिंग (Crowdfunding) अभियान की शुरुआत की है.

स्कूल के एक वर्षीय पेशेवर प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में सफल होने के बाद सिंह का सपना अंतरराष्ट्रीय नृत्य मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व करने का है. हालांकि, इसके लिए न केवल उन्हें फीस देने के लिए बल्कि लंदन में रहने के लिए बड़ी राशि की जरूरत है.

कमल सिंह ने कहा, ‘मेरा परिवार और मेरे कोच हमेशा मेरे पक्ष में खड़े हुए हैं. उन्होंने कभी मुझे हताश नहीं होने दिया. दुर्भाग्यवश मैं एक साल के पाठ्यक्रम का फीस- 8000 पांउड (करीब 7.60 लाख रुपए)- वहन नहीं कर सकता. इसके साथ ही लंदन में रहने का भी खर्च है, जो कम से कम एक हजार पाउंड (करीब 95 हजार रुपए) है.’



उन्होंने कहा, ‘मैंने क्राउडफंडिग के जरिए पैसे जुटाने का फैसला किया. मैं लोगों के प्यार और समर्थन से आगे बढ़ूंगा, जो मुझे लोगों से मिल रहा है. मैं लोगों का आभारी हूं. जो मेरे अभियान को दान दे रहे हैं.’



सिंह ने बताया कि उन्होंने पहले ही 18,000 पाउंड (करीब 17.11 लाख रुपए) एकत्र कर लिया है और 27,777 पाउंड (करीब 26.40 लाख रुपए) एकत्र करने का लक्ष्य है. उनके इस अभियान का दुनियाभर के सैकड़ों लोग समर्थन कर रहे हैं. एक दानकर्ता ने लिखा, ‘आप महान डांसर हैं और मुझे उम्मीद है कि आपका सपना पूरा होगा. अंतरराष्ट्रीय नृत्य समुदाय में भारत को गौरवान्वित करो’

कमल को रूस में प्रशिक्षण का मिल चुका है अवसर

वर्ष 2019 में बैले डांस के प्रशिक्षण के लिए रूस के सेंट पिट्सबर्ग में वागानोवा बैले एकेडमी में दाखिले के लिए कमल ने अपना वीडियो भेजा था. वीडियो देखकर वहां के प्रशिक्षक काफी प्रभावित हुए और कमल को बुला लिया. यहां कमल ने एक महीने का प्रशिक्षण लिया और अपनी प्रतिभा से वहां के आयोजको को कायल कर दिया. इस दौरान वहां हुए आयोजन में बैले डांसर की टीम का नेतृत्व करने का जिम्मा कमल को ही मिला. इस आयोजन में हर किसी ने कमल की तारीफ की.

रूस में प्रशिक्षण के बाद कमल की इच्छा इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में भी प्रशिक्षण लेने जाने की थी. इसके लिए उन्होंने प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया. कमल ने बताया कि, लॉकडाउन के दौरान लगा कि अभ्यास नहीं हो पाएगा, क्योंकि चंद्र विहार से साकेत आना जाना संभव नहीं था. कमल की विवश्ता को देखते हुए कोच फर्नांडो ने उन्हें अपने साथ वसंत विहार में रहने को कहा और घर पर ही रहकर प्रशिक्षण देते रहे. इसके बाद कमल ने बैले डांस का वीडियो इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन भेजा. जहां उसका वीडियो देखने के बाद उसे प्रशिक्षण के लिए बुलाया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज