अपना शहर चुनें

States

केरल चुनाव में ई. श्रीधरन और भाजपा की दावेदारी को लेकर शशि थरूर ने क्या कहा

कांग्रेस नेता शशि थरूर. (File pic)
कांग्रेस नेता शशि थरूर. (File pic)

Kerala Election 2021: थरूर ने कहा कि केरल चुनाव पर ई. श्रीधरन के प्रभाव का सबसे महत्वपूर्ण प्रभाव खुद भाजपा में शामिल होने की घोषणा के रूप में सामने आएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 4:02 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. ई. श्रीधरन के राजनीति में आने से केरल चुनाव में उनका ज्यादा असर पड़ने की उम्मीद नहीं है. कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने रविवार को पीटीआई से यह बात कही. उन्होंने कहा कि ई. श्रीधरन को कोई राजनीतिक अनुभव नहीं है और ऐसे में आगामी केरल विधानसभा चुनाव में उनका प्रभाव न्यूनतम रहने की उम्मीद है.


थरूर ने कहा कि केरल चुनाव पर ई श्रीधरन के प्रभाव का सबसे महत्वपूर्ण प्रभाव खुद भाजपा में शामिल होने की घोषणा के रूप में सामने आएगा. इसके साथ ही थरूर ने कहा कि केरल में कुछ सीटों पर भाजपा अपना दम दिखा सकती है. उन्होंने कहा, 'भाजपा केरल चुनाव में कुछ सीटों को छोड़कर गंभीर दावेदार नहीं है, उसने पिछली बार जो एक सीट जीती थी, उस प्रदर्शन में सुधार करना उसके लिए मुश्किल होगा.'


श्रीधरन के भाजपा में शामिल होने से पार्टी को केरल चुनाव में जीत की उम्मीद
दरअसल ‘मेट्रो मेन’ के नाम से मशहूर ई श्रीधरन के भाजपा में शामिल होने के फैसले से पार्टी को उम्मीद है कि उसका केरल विधानसभा चुनाव में जीत का रास्ता साफ हो सकता है. केरल में विधानसभा चुनाव अप्रैल में होने की संभावना है. हालांकि, राज्य में सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ गठबंधन और विपक्षी कांग्रेस नीत एलडीएफ गठबंधन को 88 वर्षीय श्रीधरन के इस दक्षिणी राज्य की राजनीति में सक्रिय होने को लेकर कोई खास फर्क दिखाई नहीं पड़ता. भाजपा को उम्मीद है कि श्रीधरन के पार्टी में शामिल होने से उसके वोट प्रतिशत में सुधार होगा और खासतौर पर उसे मध्यम वर्गीय मतदाताओं का साथ मिलने की पूरी आस है. पार्टी के वरिष्ठ नेता बी राधाकृष्णन मेनन ने कहा कि श्रीधरन के भाजपा में शामिल होने के निर्णय ने केरल के विकास के लिए एक नई उम्मीद जगाई है.



केरल में भाजपा के जीतने पर मुख्यमंत्री पद संभालने के लिए तैयार रहूंगा : श्रीधरन
दूसरी ओर, अगले सप्ताह भाजपा में शामिल होकर राजनीति में कदम रखने जा रहे ई श्रीधरन ने 19 फरवरी को कहा था कि उनका मुख्य लक्ष्य केरल में पार्टी को सत्ता में लाना है और पार्टी के जीतने पर वह मुख्यमंत्री पद संभालने के लिए तैयार रहेंगे. उन्होंने कहा था कि यदि भाजपा को इस साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत मिलती है, तो उनका ध्यान बड़े स्तर पर आधारभूत संरचना का विकास करना और राज्य को कर्ज के जाल से निकालना होगा. 'मेट्रो मैन' के नाम से मशहूर और आधारभूत ढांचे से जुड़ी बड़ी परियोजनाओं के विकास में अपनी कुशलता दिखा चुके श्रीधरन ने पीटीआई-भाषा से कहा था कि अगर पार्टी चाहेगी तो वह विधानसभा चुनाव लड़ेंगे और पार्टी कहेगी तो मुख्यमंत्री का पद भी संभाल सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज