लाइव टीवी

कोरोनावायरस: वुहान से भारतीयों को निकालने के लिए प्लेन भेज सकता है भारत- विदेश मंत्री

News18Hindi
Updated: January 28, 2020, 5:46 PM IST
कोरोनावायरस: वुहान से भारतीयों को निकालने के लिए प्लेन भेज सकता है भारत- विदेश मंत्री
कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर चीन के वुहान शहर में हुआ है. फोटो. पीटीआई

चीन (China) में कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. वुहान (Wuhan) कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है. यहां भारत से पढ़ाई करने गए छात्र फंसे हैं. विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jai Shnakar) ने कहा है कि सरकार छात्रों को बाहर निकालने की कोशिश कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2020, 5:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) का खतरा चीन (China) में लगातार बढ़ रहा है. वहां पर अब तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत इस वायरस की चपेट में आने के कारण हो चुकी है. चीन में वुहान (Wuhan) कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर है. यहां पर भारत से चीन में पढ़ाई करने गए छात्र भी फंसे हैं. अब सरकार इन फंसे हुए छात्रों को बाहर निकालने की कोशिश कर रही है. विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jai Shankar) ने कहा है कि हमारा दूतावास चीन की सरकार से लगातार संपर्क में है.

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'हम अपने लोगों को चीन से निकालने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इनमें ज्यदातर स्टूडेंट हैं. हम इन्हें निकालने के लिए एक प्लेन वुहान (Wuhan) भेज रहे हैं. सभी प्रयास जारी हैं. मैं देश के सभी लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि भारत सरकार इस दिशा में अपनी पूरी कोशिश कर रही है. बहुत जल्द ही इस समस्या का हम समाधान कर देंगे.'

विजयन ने पीएम से भारतीयों को निकालने की अपील की
चीन में कोरोना वायरस के मुख्य केंद्र वुहान प्रांत में स्थिति लगातार बिगड़ती जाने का जिक्र करते हुए केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinnaria Vijayan) ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) से वहां फंसे अपने राज्यों के लोगों समेत भारतीयों को निकालने के लिए उड़ानों का इंतजाम कराने की अपील की. केरल के लिए अपनी चिंता सामने रखते हुए उन्होंने मोदी को पत्र लिखा और उसमें उन्होंने कहा है कि वुहान में स्थिति बिगड़ गई है और राज्य को वहां के विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले केरल के विद्यार्थियों के रिश्तेदारों से सूचना मिली है कि वहां स्थिति गंभीर है.उन्होंने लिखा है कि ऐसी खबरें हैं कि यिचांग क्षेत्र भी प्रभावित है. उन्होंने पत्र में लिखा है, ‘ऐसे में वुहान या निकटतम चालू हवाई अड्डे के लिए विशेष उड़ान की व्यवस्था करना एवं वहां फंसे भारतीय यात्रियों को निकालना उपयुक्त होगा.’ कुछ दिन पहले विजयन ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को दो पत्र लिखे थे.

मुख्यमंत्री ने मोदी को लिखे पत्र में वुहान से निकाले जाने के दौरान भारतीयों को चिकित्सकीय सहयोग की जरूरत महसूस होने की स्थिति में राज्य से चिकित्सा पेशेवरों की सहायता की भी पेशकश की. उन्होंने प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में लिखा है, ‘केरल की तरफ से, मैं निकाले जा रहे भारतीयों के लिए अपनी ओर से मेडिकल पेशेवरों की सहायता की पेशकश करना चाहूंगा यदि ऐसे लोगों के लिए चिकित्सकीय सहयोग की जरूरत हो तो.’

इस पत्र के अनुसार विजयन यह भी चाहते हैं कि चीन में भारतीय दूतावास को सक्रियता से काम करने तथा केरलवासियों समेत भारतीयों को जरूरी सहायता पहुंचाने एवं उन्हें तसल्ली देने के लिए जरूरी निर्देश दिया जाए. मुख्यमंत्री ने इससे पहले जयशंकर को लिखा था और स्थिति के समग्र आकलन के लिए कदम उठाने, भारतीय मूल के लोगों को जरूरी सहायता पहुंचाने का अनुरोध किया था.

यह भी पढ़ें :-

कोरोनावायरस: मुंबई और पुणे में सामने आए छह मरीज, डॉक्टरों ने अलग जगह रखा

पाकिस्तान के लिए आई एक और बुरी खबर, इमरान खान की टेंशन हुई डबल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 4:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर