COVID-19 3rd Wave: देश में कोरोना की तीसरी लहर की आहट? जानें क्या कह रहे हैं केरल और महाराष्ट्र के हालात

अभी भी वायरस कई जगहों पर सक्रिय है (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Cases in India: दो महीने तक देश भर में कहर बरपाने वाली दूसरी लहर के बाद सरकार ने भी कोविड नियमों का पालन न करने को लेक चेतावनी जारी की थी और हिल स्टेशन और अन्य जगहों पर बढ़ रही भीड़ को हैरान करने वाला बताया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) के मामलों में कमी दर्ज की जा रही है. करीब दो महीने बाद कई राज्यों में स्थिति सुधर रही है. हालांकि अभी भी कई ऐसे जिले हैं जहां पर आशा के अनुरूप मामले कम नहीं हो रहे हैं. कई जिलों में जहां पर मामले ज्यादा हैं वहां पर इसमें तेजी से होने वाले उछाल चिंता का सबब बना हुआ है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को बाजारों और अन्य जगहों पर बढ़ रही भीड़ और लोगों के कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन न करने पर चिंता जताई थी.

    दो महीने तक देश भर में कहर बरपाने वाली दूसरी लहर के बाद सरकार ने भी कोविड नियमों का पालन न करने को लेक चेतावनी जारी की थी और हिल स्टेशन और अन्य जगहों पर बढ़ रही भीड़ को हैरान करने वाला बताया था. प्रधानमंत्री मोदी ने केरल और महाराष्ट्र के मामलों को लेकर चिंता जाहिर की थी. हालांकि यहां रोजाना आने वाले मामले दूसरी लहर की पीक पर आए मामलों से कहीं कम हैं लेकिन इसके बावजूद भी इन राज्यों में संक्रमण के मामले अभी भी ज्यादा हैं.

    दोनों ही राज्यों में पिछले सप्ताह देश में आए कोरोनावायरस के मामलों में से 50 फीसदी इन्हीं दोनों राज्यों से आए थे.

    जो सबसे ज्यादा परेशान करने वाली बात है वो यह कि महाराष्ट्र अभी भी दूसरी लहर के मामलों से पहले वाली स्थिति में नहीं पहुंच सका है, बावजूद इसके कि इसकी पीक 2.5 महीने पहले ही गुजर चुकी है. वहीं केरल में, कोरोना मामलों में एक बार फिर से तेजी देखी जा रही है. राज्य में अभी 8 जुलाई के अलावा पिछले माह दो बार कोरोना के नए मामले 15000 के पार चले गए थे.

    इन जिलों में हालात अभी भी चिंताजनक
    केरल में मल्लपुरम, कोट्टयम, कासरगोड, कोझिकोड और थिसूर में आंकड़े चिंताजनक हैं. केरल के 14 जिलों में से करीब आधे जिलों में पिछले महीने से मामले बढ़ रहे हैं. मल्लपुरम, कोट्टयम, कासरगोड में कोरोना वायरस के केस नियमित तौर पर बढ़ रहे हैं जबकि कोट्टयम और थिसूर में मामले न बढ़ रहे हैं न ही घट रहे हैं.

    वहीं महाराष्ट्र में पिछले दो सप्ताह में कोविड ग्राफ ने पठार का रूप ले लिया है. जहां रोजाना आने वाले मामले 8000 से 10,000 के बीच बने हुए हैं. मुंबई, पुणे और ठाणे में कोविड-19 की पीक आने के बाद मामलो में गिरावट देखी गई हालांकि ये अब भी ज्यादा है जिससे पता चलता है कि अभी भी वायरस कई जगहों पर सक्रिय है. हालांकि विशेषज्ञ इसका सही कारण नहीं बता पाए हैं

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.