लाइव टीवी

हर साल धीरे-धीरे खिसक रही है भारत की धरती, क्‍या आपको पता है!

ओम प्रकाश | News18India.com
Updated: September 6, 2016, 3:41 PM IST
हर साल धीरे-धीरे खिसक रही है भारत की धरती, क्‍या आपको पता है!
photo: Getty Images

भारत सरकार ने वैज्ञानिक तथ्‍यों के आधार पर यह माना है कि भारतीय प्‍लेट हर साल 5 सेंटीमीटर की दर से पूर्वोत्‍तर की ओर खिसक रही है।

  • Share this:
नई दिल्‍ली। पैरों तले की जमीन खिसकने का मुहावरा और धरती खिसकना दोनों बिल्‍कुल अलग बातें हैं, लेकिन यह सच्‍चाई है कि हमारी भारतीय धरती खिसक रही है। इससे भविष्‍य में भूकंप आने का खतरा पैदा हो सकता है। यह सवाल पिछले दिनों संसद में उठा था, लेकिन राजनीतिक शोर में आपके जीवन से जुड़ी यह बात दब गई थी।

हम हर साल भूकंप की विनाशलीला को हम देखते और सहते हैं। इसी से जुड़ा एक बड़ा खुलासा हुआ है। भारत सरकार ने वैज्ञानिक तथ्‍यों के आधार पर यह माना है कि भारतीय प्‍लेट हर साल 5 सेंटीमीटर की दर से पूर्वोत्‍तर की ओर खिसक रही है। भारतीय प्‍लेट के आगे खिसकने की इस प्रक्रिया का ग्‍लोबल पोजिशनिंग सिस्‍टम यानी जीपीएस के माध्‍यम से सरकार अध्‍ययन करवा रही है।

सरकार ने यह जवाब महाराष्‍ट्र से भाजपा सांसद नाना पटोले के सवाल पर दिया है। उन्‍होंने यह पूछा था कि सरकार ने भारतीय भूमि के उत्‍तर ओर झुकने संबंधी आंकड़ों तथा पहाड़ों की प्‍लेटों की अंदरूनी हलचलों का अध्‍ययन किया है क्‍या। दूसरा सवाल पूछा था कि क्‍या इन हलचलों से देश में भूकंप आने का खतरा है।

केंद्र सरकार ने दूसरे सवाल का जवाब ‘हां’ में दिया है। कहा है कि भारतीय प्‍लेट यूरेशियाई प्‍लेट से टकराती है। इन दोनों के बीच होने वाले परस्‍पर झुकाव से हिमालय क्षेत्र में भूकंप आते हैं। सरकार ने कहा है कि नेशनल डिजास्‍टर मैनेजमेंट अथॉरिटी, गृह मंत्रालय एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने भूकंप के सामान्‍य पहलुओं, उनके प्रभावों और होने वाली हानि को कम करने के उपायों की जानकारी स्‍कूली बच्‍चों को देना शुरू किया है।

भूकंप के बाद 10 फुट दक्षिण में खिसक गया था काठमांडू

-अप्रैल 2015 में नेपाल में आए 7.9 तीव्रता के विनाशकारी भूकंप की वजह से राजधानी काठमांडू अपने पुराने स्थान से करीब 10 फुट दक्षिण की ओर खिसक गया है। कैम्ब्रिज यूनीवर्सिटी के टेक्टॉनिक विशेषज्ञ जेम्स जैक्सन ने भूकंप के बाद पृथ्वी के भीतर गुजरने वाली ध्वनी तरंगों से प्राप्त शुरुआती आंकड़ों के विश्लेषण करके यह जानकारी दी थी।

  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2016, 3:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर