होम /न्यूज /राष्ट्र /भारतीय सेना की पूर्वी कमान के कमांडर बोले, 'पाकिस्तान की परमाणु धमकियों से नहीं डरता भारत'

भारतीय सेना की पूर्वी कमान के कमांडर बोले, 'पाकिस्तान की परमाणु धमकियों से नहीं डरता भारत'

सेना के पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एम एम नरवाने ने पाकिस्तानी पीएम की परमाणु धमकी का जवाब दिया है (फाइल फोटो)

सेना के पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एम एम नरवाने ने पाकिस्तानी पीएम की परमाणु धमकी का जवाब दिया है (फाइल फोटो)

सेना की पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एम एम नरवाने (M M Naravane) ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान (Pakistan) परम ...अधिक पढ़ें

    सेना की पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एम एम नरवाने (M M Naravane) ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान (Pakistan) परमाणु धमकी (Nuclear Threat) देना जारी रखे लेकिन भारत ऐसी धमकियों से भयभीत नहीं होगा. नरवाने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) की उस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे जो उन्होंने सोमवार को देश के नाम संबोधन में दोनों देशों की परमाणु क्षमताओं को लेकर की थी.

    लेफ्टिनेंट जनरल नरवाने ने यहां भारत चैंबर आफ कॉमर्स में ‘डिफेंडिंग आवर बार्डर्स’ (Defending Our Borders) विषय पर एक चर्चा के दौरान कहा, ‘‘वे परमाणु धमकी देना जारी रख सकते हैं, हम उससे नहीं डरते.’’

    इमरान खान ने दी थी परमाणु हथियारों की धौंस
    जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) के अधिकतर प्रावधानों को भारत द्वारा समाप्त करने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में जी-7 शिखर सम्मेलन के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के साथ बैठक में भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर मुद्दे पर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की किसी भी संभावना को स्पष्ट तौर पर खारिज किया था.

    खान ने कहा था कि वह कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र महासभा सहित सभी अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाएंगे. उन्होंने कहा था,‘‘क्या ये बड़े देश केवल अपने आर्थिक हितों को ही देखते रहेंगे? उन्हें याद रखना चाहिए कि दोनों देशों के पास परमाणु हथियार हैं.’’

    उपयोगिता खत्म होने के चलते खत्म किया गया अनुच्छेद 370
    नरवाने ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने पर कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर खंड इसलिए समाप्त कर दिये गए क्योंकि इसकी उपयोगिता समाप्त हो गई थी. उन्होंने कहा कि यह सही नहीं है कि जम्मू कश्मीर के लोग परिवर्तन का स्वागत नहीं कर रहे हैं, उन्होंने कहा कि अब दो हिस्सों में बंटे राज्य में से 55 प्रतिशत में लद्दाख (Ladakh) है.

    उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर के हिस्से में, केवल पांच जिले हैं जो कि अशांति (गत वर्षों में घाटी में आतंकवाद के लिए) के लिए जिम्मेदार हैं, तो क्या केवल पांच जिले पूरे देश को बंधक बनाकर रखेंगे?’’

    यह भी पढ़ें: पूर्वी सैन्य कमांडर की चीन को चुनौती- ये साल 1962 नहीं है...

    Tags: Article 35A, Article 370, Imran khan, Indian army, Jammu, Kashmir, Ladakh S09p04, Nuclear weapon

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें