मणिपुर में तीन विधानसभा सीटों पर सात नवंबर को होगा उपचुनाव: निर्वाचन आयोग

तीन नवंबर को अन्य 54 विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव की मतगणना भी 10 नवंबर को होगी. (सांकेतिक तस्वीर)
तीन नवंबर को अन्य 54 विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव की मतगणना भी 10 नवंबर को होगी. (सांकेतिक तस्वीर)

Manipur Bypolls: मणिपुर में सभी सीटों पर सात नवंबर को उपुचनाव होगा और तीन चरणों में होने जा रहे बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना के साथ ही मणिपुर की इन सीटों के उपचुनाव की मतगणना भी 10 नवंबर को होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. निर्वाचन आयोग (Election Commision of India) ने सोमवार को कहा कि मणिपुर (Manipur) में तीन विधानसभा सीटों पर सात नवंबर को उपचुनाव (Bypolls) होगा. गत 29 सितंबर को आयोग ने मणिपुर में दो विधानसभा सीटों (Assembly Seats) पर उपचुनाव की घोषणा की थी. आयोग की सोमवार की घोषणा के बाद मणिपुर में उपचुनाव वाली सीटों की संख्या पांच हो गई है. राज्य में संबंधित सभी सीटों पर सात नवंबर को उपुचनाव होगा और तीन चरणों में होने जा रहे बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की मतगणना के साथ ही मणिपुर की इन सीटों के उपचुनाव की मतगणना भी 10 नवंबर को होगी.

तीन नवंबर को अन्य 54 विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव की मतगणना भी 10 नवंबर को होगी. बिहार की वाल्मीकि नगर (Valmiki Nagar) लोकसभा सीट पर भी सात नवंबर को ही उपचुनाव होगा. निर्वाचन आयोग ने पिछले मंगलवार को ऐलान किया कि 12 राज्यों में लोकसभा की एक सीट एवं विधानसभा की 56 सीटों के लिए तीन और सात नवंबर को उप चुनाव कराए जाएंगे. इन सीटों पर उपचुनाव की घोषणा करने से पहले मंगलवार को ही निर्वाचन आयोग ने एक अलग बयान जारी कर घोषणा की कि केरल, तमिलनाडु, असम और पश्चिम बंगाल की कुल सात सीटों पर इस समय उप चुनाव नहीं कराया जाएगा.

ये भी पढ़ें- रोजगार के लिए योगी सरकार का मेगा प्लान, 4.50 लाख लोगों को मिलेगी नौकरी!



सरकार को लेकर संशय बरकरार
बता दें मणिपुर में भाजपा नीत सरकार के बने रहने को लेकर भी अभी संशय बरकरार है. पिछले सप्ताह शिलांग में नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के अध्यक्ष कोनराड के. संगमा से मिलकर लौटे पार्टी के विधायकों ने इस संबंध में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया कि वे मणिपुर में भाजपा-नीत गठबंधन सरकार में बने रहेंगे या नहीं.

पार्टी प्रमुख और मेघालय के मुख्यमंत्री संगमा से मिलने और मणिपुर के राजनीतिक हालात पर चर्चा करने के लिए चारों विधायक 26 सितंबर को शिलांग गए थे. गौरतलब है कि 24 सितंबर को मंत्रिमंडल में फेरबदल के दौरान इनमें से दो विधायकों को मंत्री पद से हटा दिया गया था.

ये भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर के पंपोर में आतंकी हमला, 2 CRPF जवान शहीद, 3 घायल

मणिपुर में एन. बीरेन सिंह के मंत्रिमंडल में ये चारों विधायक मंत्री थे और इन्होंने पहले तय किया था कि उनमें से किसी को भी मंत्री पद से हटाए जाने के बाद वे गठबंधन सरकार से बाहर चले जाएंगे.



स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री के पद से हटाए गए एल. जयंतकुमार सिंह ने इम्फाल पहुंचने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम अभी कुछ नहीं कह सकते हैं (सरकार में बने रहने के संबंध में). समय सबकुछ बताएगा.’’ उन्होंने कहा कि एनपीपी आगामी उपचुनावों में अपने उम्मीदवार उतारेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज