Assembly Banner 2021

'मुस्लिम अपना वोट न बंटने दें'- ममता के बयान पर चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

मंमता बनर्जी को चुनाव आयोग का नोटिस. (फाइल फोटो)

मंमता बनर्जी को चुनाव आयोग का नोटिस. (फाइल फोटो)

मामला ममता बनर्जी (Mamata Banrejee) के उस बयान से जुड़ा हुआ है जिसमें उन्होंने हुगली में मुस्लिम मतदाताओं से अपने वोट को न बंटने देने की अपील की थी. चुनाव आयोग ने माना है कि ममता बनर्जी ने चुनाव आचार संहिता के नियमों का उल्लंघन किया.

  • Last Updated: April 7, 2021, 9:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चुनाव आचार संहिता उल्लंघन (Model Code Of Conduct) के मामले में चुनाव आयोग (EC) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी (Mamata Banrejee) को नोटिस (Notice) भेजा है. मामला ममता बनर्जी के उस बयान से जुड़ा हुआ है जिसमें उन्होंने हुगली में मुस्लिम मतदाताओं से अपने वोट को न बंटने देने की अपील की थी. ममता बनर्जी ने मुस्लिम मतदाताओं से अपील करते हुए कहा था कि वह विभिन्न पार्टियों में अपने वोट को न बंटने दें. चुनाव आयोग ने माना है कि ममता बनर्जी ने चुनाव आचार संहिता के नियमों का उल्लंघन किया, इसलिए उन्हें नोटिस भेजा गया है. चुनाव आयोग की तरफ से 48 घंटे में जवाब देने को कहा गया है.

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधि मंडल ने ममता बनर्जी के बयान की शिकायत चुनाव आयोग से की थी और चुनाव आचार संहिता के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. ममता बनर्जी ने 3 अप्रैल को हुगली में मुस्लिम मतदाताओं को लेकर बयान दिया था. ममता बनर्जी नंदीग्राम से तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार भी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ममता बनर्जी के बयान पर बंगाल में चुनावी रैली के दौरान चुनावी टिप्पणी की थी.

EC ने मतदाताओं को धमकाने के ममता बनर्जी के आरोपों को गलत पाया था
नंदीग्राम में वोटिंग वाले दिन मतदाताओं को धमकाने के ममता बनर्जी के आरोपों को गलत पाया था और चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री की तरफ से ऐसे गलत आरोपों को लेकर खेद प्रकट किया था. चुनाव आयोग ने अपने पत्र में यह भी कहा था कि आयोग इस मामले की जांच कर रहा है कि क्या इन आरोपों पर चुनाव आचार संहिता के तहत कार्रवाई हो सकती है कि नहीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज