मनी लॉडिंग मामले में ED ने रॉल्‍स रॉयस पर दर्ज किया केस

News18Hindi
Updated: September 8, 2019, 8:53 PM IST
मनी लॉडिंग मामले में ED ने रॉल्‍स रॉयस पर दर्ज किया केस
ईडी ने लंदन स्थित रोल्स रॉयस के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है (फाइल फोटो)

इंफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ED) ने लंदन स्थित रोल्स रॉयल (Rolls Royce) के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के मामले में क्रिमिनल केस दर्ज किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 8, 2019, 8:53 PM IST
  • Share this:
इंफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ED) ने लंदन स्थित रोल्स रॉयल (Rolls Royce) के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के मामले में क्रिमिनल केस दर्ज किया है. ईडी से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि इस केस के तहत ईडी (ED) कथित मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) के आरोपों की जांच करेगा. इस मामले से जुड़ा आरोप यह है कि लंदन (London) स्थित रोल्स रॉयस ने भारत की कई पब्लिक सेक्टर इकाईयों (PSU) से जुड़े कॉन्ट्रैक्ट पाने के लिए 77 करोड़ रुपये का घूस एक बिचौलिए को दिया था.

इस डील के जरिए जिन पब्लिक सेक्टर इकाईयों (PSU's) के कॉन्ट्रैक्ट 2007 से 2011 के बीच हासिल करन का प्रयास किया गया था, उनमें हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL), ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) और गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (GAIL) शामिल हैं.

CBI पहले ही दर्ज करा चुकी है FIR
इंफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने इस मामले में प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत मामला दर्ज किया है. यह कदम केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के इस मामले में FIR दर्ज कराने के बाद उठाया गया है. CBI ने इस मामले में जुलाई में ही FIR दर्ज कराई थी.

इस मामले में कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने के लिए लंदन स्थित रोल्स रॉयस ने सिंगापुर (Singapore) में रहने वाले अशोक पाटनी तथा उसकी कंपनी आशमोरे प्राइवेट लिमिटेड की सेवाएं लेने की शिकायतें सामने आई थीं. इस मामले से जुड़ा एक पत्र रक्षा मंत्रालय को रोल्स रॉयस के पाटनी के साथ संबंधों के बारे में पत्र मिला था जिसे जांच के लिए सीबीआई (CBI) के पास भेजा गया था.

ये है पूरा मामला
CBI अधिकारियों ने बताया था कि 2000 से 2013 के बीच HAL के साथ रोल्स रॉयस का कुल कारोबार 4700 करोड़ रुपये का रहा. आरोप है कि रोल्स रॉयस ने 2007 से 2011 के बीच HAL को एवन एवं एलीसन इंजन के पुर्जों के सौ आर्डर में ‘‘वाणिज्यिक सलाहकार’’ के रूप में पाटनी को 18 करोड़ रुपये का भुगतान किया.
Loading...

CBI ने आरोप लगाया था कि पुर्जों की आपूर्ति के लिए ONGC और GAIL के साथ रोल्स रॉयस के सीधे ठेकों के लिए भी पाटनी की सेवाएं ली गईं. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि रोल्स रॉयस ने गेल को आपूर्ति के लिए 2007 से 2010 के दौरान कुल 28.09 करोड़ रुपये के कमीशन का भुगतान किया. इस मामले में रोल्स रॉयस की ओर से अभी प्रतिक्रिया नहीं आई है.

यह भी पढ़ें: भारत में BS-VI लागू होने पर 20 प्रतिशत महंगे हो जाएंगे डीजल वाहन : टोयोटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 6:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...