ED ने वाड्रा के करीबी रहे संजय भंडारी के 14 ठिकानों पर की छापेमारी, मिले कई अहम दस्तावेज

ED ने वाड्रा के करीबी रहे संजय भंडारी के 14 ठिकानों पर की छापेमारी, मिले कई अहम दस्तावेज
ईडी ने 14 जगह मारी छापेमारी (फाइल फोटो)

एयरफोर्स के बेसिक ट्रेनर विमानों की खरीदारी से जुड़े फर्जीवाडे और उसकी कीमत में हुई अनियमितता से जुडा हुआ है, इस डील के लिए स्विट्जरलैंड की कंपनी पिलाटस एयरक्राफ्ट लिमिटेड (pilatus aircraft ) सहित उसके कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 7, 2020, 5:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी (Enforcement directorate) की टीम दिल्ली, मुबंई, नोएडा सहित करीब 14 लोकेशन पर छापेमारी कर रही है. दरअसल ये मामला एयरफोर्स के बेसिक ट्रेनर विमानों की खरीदारी से जुड़े फर्जीवाडे और उसकी कीमत में हुई अनियमितता से जुडा हुआ है, इस डील के लिए स्विट्जरलैंड की कंपनी पिलाटस एयरक्राफ्ट लिमिटेड (pilatus aircraft ) सहित उसके कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. इसी डील मामले में सीबीआई (CBI ) ने हाल में ही एक एफआईआर दर्ज किया था.

इस FIR में करीब 339 करोड़ रुपये की रिश्वत दिए और प्राप्त करने का मामला है. इसी एफआईआर में चर्चित डीलर संजय भंडारी सहित कई संदिग्ध आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. इसी मामले की तफ्तीश के दौरान कई महत्वपूर्ण जानकारियां हाल में ही ईडी को प्राप्त हुई थी, जिसके बाद ईडी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए 14 लोकेशन पर सर्च ऑपरेशन को आज शुक्रवार को अंजाम दिया गया.

क्या संबंध है संजय भंडारी और रॉबर्ट वाड्रा के बीच



साल 2008 -09 के दौरान यानी कांग्रेस के शासनकाल में इस फर्जीवाडे को अंजाम दिया गया था. लिहाजा इस मामले में राजनीतिक घरानों से भी इसके तार जुड़ते आ रहे हैं, क्योंकी जांच एजेंसियों को ऐसा लगता है की इस मामले में कुछ राजनीतिक लोगों ने अपने प्रभाव और पद का पावर का गलत प्रयोग करते हुए कुछ प्राइवेट लोगों के माध्यम से अंतराष्ट्रीय स्तर के डीलर को फायदा पहुंचाया गया है. लिहाजा इसी मामले में तफ्तीश जारी है. केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई की टीम ने पिलाटलस एयरक्राप्ट लिमिटेड कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया है. ये कंपनी स्विटजरलैंड की है, लिहाजा इस मामले में इस स्विटज़रलैंड की इस कंपनी सहित भारतीय वायुसेना और रक्षा मंत्रालय से जु़डे कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इसी मामले को आधार बनाते हुए ईडी ने भी मामला दर्ज कर किया था.
इस मामले में रॉबर्ट वाड्रा (Robert vadra )  को आरोपी के तौर पर कहीं भी नामजद नहीं किया गया है, लेकिन जांच के दौरान ये जरूर पाया गया है की संजय भंड़ारी ने इस मामले में करोडों रुपये की घूस की रकम कई सरकारी अधिकारियों और राजनीतिक घराने से जु़डे कुछ लोगों को फायदा पहुंचाया है, लिहाजा इसी मामले की गंभीरता को देखते हुए संजय भंडारी के करीबी मित्र रहे रॉबर्ट वाड्रा के साथ कनेक्शन मामले की तफ्तीश शुरू हो गई है. इस मामले में पहले हुई तफ्तीश के दौरान लंदन वाली प्रोपर्टी से जु़डे कुछ दस्तावेज बरामद हुए थे, जिसका संबंध संजय भंडारी और रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी में कार्यरत कुछ लोगों के साथ लगातार संपर्क तफ्तीश का मसला है.

पैसों की लेनदेन का सीबीआई और ईडी के लिए जांच का मुख्य मुद्दा बना हुआ है. क्योंकी ईडी की टीम ये जानना चाहती है की घूस की रकम का बंदरबांट कैसे हुआ और किन-किन आरोपियों को इसका फायदा हुआ है. क्या इसी रिश्वत के पैसों से लंदन वाली प्रोपर्टी खरीदी गई थी या नहीं ये भी जांच का मसला है. इस मामले में ईडी की टीम कई आरोपियों से पूछताछ करने वाली है, हालांकी मुख्य आरोपी संजय भंडारी देश से फरार है लेकिन उसके खिलाफ कई मामलों की पड़ताल सीबीआई और ईडी में चल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज