धनशोधन मामलाः ED ने तेलंगाना के पूर्व मंत्री के दामाद के परिसर समेत कई जगह की छापेमारी

ईडी ने कहा कि इस घोटाले में कथित रूप से करीब 100-200 करोड़ रूपये की हेराफेरी की गयी.

ईडी ने कहा कि इस घोटाले में कथित रूप से करीब 100-200 करोड़ रूपये की हेराफेरी की गयी.

केंद्रीय जांच एजेंसी ने एक बयान में कहा कि उसने हैदराबाद में सात स्थानों पर तलाशी के दौरान ‘‘भारी मात्रा में अभियोजनयोग्य सबूत, बिना लेखा-जोखा के तीन करोड़ रूपये नकद , संपत्ति के कागजात एवं लॉकर’ आदि जब्त किये हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) (ईडी) ने शनिवार को कहा कि उसने राज्य में आईएमएस और ईएसआईसी विभागों में कथित धोखाधड़ी से संबद्ध धनशोधन जांच के सिलसिले में तेलंगाना में पूर्व मंत्री दिवंगत नयनी नरसिम्हा रेड्डी (Nayani Narasimha Reddy) के दामाद के परिसर समेत कई जगह छापे मारे.

केंद्रीय जांच एजेंसी ने एक बयान में कहा कि उसने हैदराबाद में सात स्थानों पर तलाशी के दौरान ‘‘भारी मात्रा में अभियोजनयोग्य सबूत, बिना लेखा-जोखा के तीन करोड़ रूपये नकद , संपत्ति के कागजात एवं लॉकर’ आदि जब्त किये हैं. उसने कहा कि छापेमारी अब भी जारी है. उसके अनुसार डॉ़ देविका रानी, श्रीहरि बाबू उर्फ बाबजी, वी श्रीनिवास रेड्डी (नयनी नरसिम्हा रेड्डी के दामाद), एम विनय रेड्डी (मुकुंद रेड्डी के रिश्तेदार), बुर्रा प्रमोद रेड्डी के आवासीय परिसरों और ओमनी मेडी के कारोबारी परिसर की तलाशी की गयी.

बिना लेखा-जोखा के करोड़ों रुपये जब्त

ईडी ने कहा , ‘‘ श्रीनिवास रेड्डी, बुर्रा प्रमोद रेड्डी और एम विनय रेड्डी के परिसरों से बिना लेखा जोखा के क्रमश: करीब 1.50 करोड़ रूपये, 1.15 करोड़ रूपये और 45 लाख रूपये नकद जब्त किये गये.’’
उसने कहा कि तेलंगाना के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा दर्ज की गयी आठ प्राथमिकियों के आधार पर उसने इंश्योरेंस मेडिकल सर्विसेज (आईएमएस) के तत्कालीन निदेशक डॉ. देविका रानी, उनके पति और ओमनी ग्रुप के श्रीहरि बाबू उर्फ बाबजी तथा सात अन्य के खिलाफ धनशोधन रोकथाम अधिनियम के प्रावधानों के तहत जांच शुरू की थी.

ये भी पढ़ेंः- महाराष्‍ट्र में कोरोना से 1 दिन में 309 मौतें और 55,411 केस, मुंबई में बेतहाशा बढ़ोतरी





ब्यूरो ने दवाइयों एवं सर्जिकल किट की ऊंचे दाम पर खरीद एवं आपूर्ति में वित्तीय अनियमितताओं तथा कर्मचारी राज्य बीमा निगम एवं सरकार के नियमों के उल्लंघन को लेकर उनपर मामला दर्ज किया था. ईडी ने कहा कि इस घोटाले में कथित रूप से करीब 100-200 करोड़ रूपये की हेराफेरी की गयी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज