Union Budget 2018-19 Union Budget 2018-19

कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर रेड, 39 ब्लू शीट्स साथ ले गई ED

News18Hindi
Updated: January 13, 2018, 12:49 PM IST
कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर रेड, 39 ब्लू शीट्स साथ ले गई ED
पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने शनिवार तड़के छापेमारी की.
News18Hindi
Updated: January 13, 2018, 12:49 PM IST
पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने शनिवार तड़के छापेमारी की. प्राप्त जानकारी के मुताबिक एयरसेल-मैक्सिस डील से जुड़ी कथित अनियमितताओं के सिलसिले में ईडी अधिकारियों ने दिल्ली और चेन्नई स्थित पांच जगहों पर छापेमारी की. इनमें से एक ठिकाना दिल्ली के जंगपुरा में, जबकि चार अन्य चेन्नई में है.

प्रवर्तन निदेशालय के पांच अधिकारी सुबह साढ़े सात बजे से चिदंबरम के घर पहुंचे. ईडी अधिकारी करीब साढ़े तीन घंटे तक छानबीन करने के बाद सुबह 11 बजे वहां से निकले.

ईडी अधिकारियों के इस छापे के दौरान चिदंबरम या उनके बेटे कार्ति चेन्नई स्थित अपने घर पर नहीं थे. वहीं छापेमारी के बाद चिदंबरम के वकील ने कहा कि ईडी अधिकारियों को छापे में कुछ भी नहीं मिला.

हालांकि सूत्रों के मुताबिक, ईडी अधिकारियों को चेन्नई से तो कुछ नहीं मिला, लेकिन दिल्ली के जोरबाग स्थित आवास से वह 39 ब्लू शीट्स अपने साथ ले गए हैं. ये कागजात वर्ष 2012-13 के बीच संसद में सरकार की तरफ से दिए बयानों से जुड़े हैं.

ईडी अधिकारियों पर भड़के चिदंबरम
वहीं इस छापे को लेकर पी. चिदंबरम ने कहा कि ईडी के पास इन छापों का कोई अधिकार नहीं था. ईडी अधिकारियों को लगा कि जोर बाग वाला घर कार्ति का है. उन्हें जब पता चला कि यहां बस मैं रहता हूं, तो उन्हें खासी शर्मिंदगी हुई. उन्होंने कहा करि ईडी को इन छापों के दौरान चेन्नई से कुछ नहीं मिला और जो वह ले गए उनका मामले से कोई लेना-देना ही नहीं.

ईडी ने यह दिया जवाब
वहीं ईडी ने इन छापों को लेकर जारी बयान में कहा कि जोर बाग वाला बंगला कार्ति और नलिनी चिदंबरम के नाम है, इसलिए वहां छापे मारे गए. ईडी को विभिन्न ठिकानों से कई दस्तावेज़ हाथ लगे हैं.

बता दें कि कार्ति चिदंबरम को 11 जनवरी को 2जी घोटाले से जुड़े एयरसेल मैक्सिस डील मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार झेलनी पड़ी थी.

इसके पहले सितंबर 2017 में ईडी ने कार्ति चिदंबरम की दिल्ली और चेन्नई में कई संपत्तियां जब्त की थी. जांच के दौरान ED को पता चला कि एयरसेल मैक्सिस केस में FIPB अप्रूवल पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम द्वारा दिया गया था. साथ ही ED को यह पता चला कि कार्ति और पी. चिदंबरम की भतीजी की कंपनी को मैक्सिस ग्रुप से 2 लाख डॉलर मिले थे.

केंद्रीय जांच एजेंसी एयरसेल-मैक्सिस डील में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की भूमिका की भी जांच कर रही है. 2006 में मलेशियाई कंपनी मैक्सिस द्वारा एयरसेल में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने के मामले में रजामंदी देने को लेकर चिदंबरम पर अनियमितताएं बरतने का आरोप है.

मई 2017 में दर्ज हुआ मनी लॉन्डरिंग का केस
इसके कार्ति चिदंबरम के खिलाफ मनी लॉन्डरिंग केस भी है.विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (FIPB) द्वारा 2007 में आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेश से 305 करोड़ रुपये की राशि प्राप्त करने के प्रस्ताव को मंजूरी देने में हुई कथित अनियमितताओं के मामले में सीबीआई कई बार कार्ति चिदंबरम से पूछताछ कर चुकी है.

ये भी पढ़ें:  सुप्रीम कोर्ट विवाद: सीजेआई पर जजों ने उठाए सवाल, सियासत हुई तेज
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर