Home /News /nation /

अशोक चव्हाण पर फिर आदर्श स्कैम का साया, ED के नए कदम से मंत्री बनने का सपना हुआ चूर- सूत्र

अशोक चव्हाण पर फिर आदर्श स्कैम का साया, ED के नए कदम से मंत्री बनने का सपना हुआ चूर- सूत्र

ईडी अधिकारियों ने बुधवार को ही आदर्श सोसाइटी के फ्लैट्स और खाली जगह की नापजोख करा ली है. इसी कथित घोटाले के चलते पूर्व सीएम अशोक चह्वाण को इस्‍तीफा देना पड़ा था.

ईडी अधिकारियों ने बुधवार को ही आदर्श सोसाइटी के फ्लैट्स और खाली जगह की नापजोख करा ली है. इसी कथित घोटाले के चलते पूर्व सीएम अशोक चह्वाण को इस्‍तीफा देना पड़ा था.

प्रवर्तन निदेशालय (ED) जल्‍द ही मनी लॉन्ड्रिंग एक्‍ट (Money Laundering Act) के तहत मुंबई की आदर्श सोसाइटी (Adarsh Society) के खिलाफ कार्रवाई करेगा. पूर्व मुख्‍यमंत्री अशोक चह्वाण (Ashok Chavan) को इसी मामले के सामने आने पर पद से इस्‍तीफा देना पड़ा था.

अधिक पढ़ें ...
    मुंबई. महाराष्‍ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन की सरकार बनने जा रही है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेंगे. उनके साथ उनके मंत्रिमंडल के कुछ सदस्‍य भी पद व गोपनीयता की शपथ लेने वाले हैं, जिनमें अशोक चव्हाण का भी नाम बताया जा रहा था. हालांकि, शपथ से पहले ही अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं. दरअसल, प्रवर्तन निदेशालय (ED) आदर्श सोसाइटी को अटैच करने की तैयारी में है. ईडी के सूत्रों ने बताया कि सोसाइटी को अटैच करने की कार्रवाई जल्‍द की जाएगी. बता दें कि आदर्श सोसाइटी घोटाले (Adarsh Society Scam) के सामने आने पर ही पूर्व मुख्‍यमंत्री चव्हाण को पद से इस्‍तीफा देना पड़ा था. जब CNN-News18 ने चव्हाण से इस बारे में पूछा तो उन्‍होंने कहा कि मेरा इस मामले से कोई लेनादेना नहीं है. हालांकि अब खबर है कि आज वह शपथ नहीं लेंगे. सूत्रों के मुताबिक, मंत्रियों की लिस्ट से अशोक चव्हाण का नाम वापस ले लिया गया है.

    ईडी को प्राइवेट वैल्‍युर की रिपोर्ट का है इंतजार
    प्रवर्तन निदेशालय ने आदर्श सोसाइटी घोटाले की जांच फिर से शुरू कर दी है. ईडी की टीम बुधवार को दक्षिण मुंबई के कोलाबा में आदर्श सोसाइटी परिसर पहुंची. इसके बाद टीम ने फ्लैट्स और खाली पड़ी जगह की नापजोख (Measurement) की. ईडी के अधिकारियों ने शहीदों की विधवाओं और रक्षाकर्मियों के कल्याण के लिए आवंटित भूमि पर बनी विवादास्पद हाउसिंग सोसाइटी (Housing Society) के परिसर का बुधवार को दूसरी बार दौरा किया था. सूत्रों ने बताया कि ईडी ने सोसाइटी के हर फ्लैट के मूल्‍यांकन (Evaluation) की जिम्‍मेदारी प्राइवेट वैल्‍युर (Private Valuer) को सौंपी है. फिलहाल ईडी प्राइवेट वैल्‍युर की रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है.

    ईडी मामले में दाखिल कर चुकी है चार्जशीट
    सोसाइटी के 31 मंजिला टावर में कई नौकरशाहों, राजनेताओं और रक्षा अधिकारियों को फ्लैटों की पेशकश की गई. ईडी ने उन्हें आरोपी बनाया है. इस मामले में सीबीआई (CBI) ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को आरोपी बनाया था. उनके अलावा कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं की भी मामले में जांच चल रही थी. आदर्श सोसाइटी के अधिकारियों ने बुधवार को ईडी के अधिकारियों के परिसर में नापजोख कराने पर आपत्ति जताई. साथ ही ईडी से कहा कि परिसर में आने से 15 दिन पहले उन्हें सूचित किया जाए. बता दें कि ईडी इस मामले में पहले ही चार्जशीट (Chargesheet) दाखिल कर चुका है. फिलहाल इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई चल रही है.

    ये भी पढ़ें- Analysis: कांग्रेस के लिए फायदे का सौदा साबित होगा शिवसेना के साथ गठबंधन?

    अब राज ठाकरे साबित हो सकते हैं बाला साहेब की विरासत के असली वारिस!

    Tags: Adarsh society scam, CBI, Enforcement, Maharashtra, Mumbai, Supreme Court

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर