लाइव टीवी

NDA की बैठक में दिखा महाराष्ट्र का असर, PM मोदी बोले- दूर किए जाएं छोटे मतभेद

News18Hindi
Updated: November 17, 2019, 9:45 PM IST
NDA की बैठक में दिखा महाराष्ट्र का असर, PM मोदी बोले- दूर किए जाएं छोटे मतभेद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को एनडीए की बैठक में शामिल हुए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने एनडीए (NDA) की बैठक में कहा कि बेहतर समन्वय के लिए एक समन्वय समिति बनाई जानी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2019, 9:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) में राजनीतिक उथल-पुथल का असर रविवार को एनडीए (NDA) की बैठक में भी महसूस किया गया, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सहयोगियों से छोटे मतभेदों को दूर करने के लिए कहा.

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के 'विशाल परिवार' पर जोर देते हुए, पीएम मोदी ने कहा, 'हम लोगों के लिए एक साथ काम करें. हमें एक विशाल जनादेश दिया गया है, आइए इसका सम्मान करें. समान विचारधारा के नहीं होने के बावजूद हम समान विचारधारा वाले दल हैं. हमें छोटे-मोटी दूरियों को नजरअंदाज करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि बेहतर समन्वय के लिए एक समन्वय समिति बनाई जानी चाहिए.'

चिराग पासवान ने भी की टिप्पणी
लोक जन शक्ति पार्टी के नवनियुक्त प्रमुख चिराग पासवान ने संसद के शीतकालीन सत्र से पहले एनडीए की बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि शिवसेना की अनुपस्थिति को बैठक में महसूस किया गया क्योंकि यह सबसे पुराने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सदस्य थे. उन्होंने कहा, 'सहयोगियों के बीच बेहतर समन्वय होना चाहिए और एक एनडीए संयोजक नियुक्त किया जाना चाहिए.'

चिराग ने कहा, 'यह चिंता की बात है कि तेलुगु देशम पार्टी ने पहले गठबंधन छोड़ दिया और फिर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने किया. हम सभी (सहयोगी) आगामी सत्र में एक साथ काम करेंगे और इस तरह की और बैठकें होनी चाहिए.'

पीएम ने सांसदों से की अपील
इस बीच, भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री ने भाजपा सांसदों से सदन में अच्छी उपस्थिति सुनिश्चित करने को कहा. उन्होंने सांसदों से सदन में मुद्दों को उठाने और केंद्र सरकार की योजनाओं को नागरिकों तक पहुंचाने में मदद करने को कहा.
Loading...

आज हुई सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने भी भाग लिया. जिसके बाद संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने संवाददाताओं से कहा कि 27 दलों की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सदन का सबसे महत्वपूर्ण काम चर्चा और बहस करना है.

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को सभी राजनीतिक दलों से सदन के सुचारू संचालन के लिए सहयोग की अपील की थी. अध्यक्ष ने कहा कि विभिन्न दलों के नेताओं ने विभिन्न मुद्दों का उल्लेख किया है जो कि 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलने वाले शीतकालीन सत्र के दौरान चर्चा किए जाने की कामना करते हैं.

यह भी पढ़ें:  CM भूपेश बघेल ने मोदी सरकार से की धान से एथनॉयल बनाने की मांग, बताई ये वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 5:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...