Assembly Banner 2021

वैक्सीन सर्टिफिकेट पर छपी PM मोदी की फोटो पर आपत्ति, DYFI ने EC से की शिकायत

चुनाव आयोग

चुनाव आयोग

Kerala Assembly Election 2021: डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया के एक नेता ने चुनाव आयोग से कहा है कि केरल में आदर्श आचार संहिता पहले ही लागू है. यहां कोविड-19 टीकाकरण प्रमाणपत्र पर पीएम मोदी की तस्‍वीर लगी हुई है, यह चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है, इसलिए इसे हटाने देना चाहिए.

  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) के एक नेता ने गुरुवार को चुनाव आयोग में शिकायत देकर कोविड-19 टीकाकरण प्रमाणपत्र से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर को हटाने की मांग की. एक संक्षिप्त पत्र में, केरल राज्य युवा आयोग के सह-समन्वयक मिधुन शाह ने कहा कि दक्षिण भारतीय राज्य में आदर्श आचार संहिता पहले ही लागू है. राज्य में छह अप्रैल को विधानसभा चुनाव होंगे.

उन्होंने कहा, 'राज्य में निशुल्क कोविड-19 का टीका प्राप्त करने पर जारी प्रमाण पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर और उनके भाषण का अंश है.' उन्होंने कहा, 'चूंकि यह चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है, इसलिये मैं आपसे इसे हटाने के लिए आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध करता हूं.'

ये भी पढ़ें:  केरल चुनाव: BJP के CM उम्मीदवार होंगे 'मेट्रो मैन', कहा- मेरी जीत पक्की है



शाह ने बाद में कहा कि यह शिकायत आज सुबह एक टीकाकरण केंद्र पर टीका लगवाने के बाद मिले अस्थायी प्रमाण पत्र के आधार पर दर्ज कराई गई. उन्होंने कहा, 'युवा आयोग के राज्य-समन्वयक के रूप में, मुझे आज सुबह टीके की पहली खुराक दी गई. प्रमाण पत्र में प्रधानमंत्री की रंगीन तस्वीर और उनके भाषण का अंश देखकर मुझे आश्चर्य हुआ.'
ये भी पढ़ें: केरल: LDF की जीत से टूटेगा 40 साल का रिकॉर्ड या कांग्रेस गठबंधन करेगा वापसी, समझें समीकरण

उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है और इसलिए चुनाव आयोग से संपर्क कर इसे हटाने की मांग की है.' गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का हवाला देते हुए बुधवार को सभी पेट्रोल पंप डीलरों एवं अन्य एजेंसियों को 72 घंटे के भीतर अपने परिसर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाले केंद्रीय योजनाओं के होर्डिंग हटाने का निर्देश दिया था.

बंगाल में भी हो चुकी है शिकायत
तृणमूल कांग्रेस नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को यहां चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की और आरोप लगाया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा वितरित कोविड टीकाकरण प्रमाणपत्रों और विभिन्न केन्द्रीय योजनाओं के विज्ञापनों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर का इस्तेमाल आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है. राज्य के मंत्री फरहाद हाकिम ने चुनाव आयोग के अधिकारियों से बैठक के बाद कहा कि तृणमूल कांग्रेस ने इसे 'सरकारी मशीनरी का जबरदस्त दुरुपयोग' बताया है और पेट्रोल पंपों पर लगी केन्द्र सरकार की योजनाओं के विज्ञापन वाली होर्डिंग्स को हटाने के लिए चुनाव आयोग से हस्तक्षेप करने की मांग की है. उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस विधानसभा चुनाव में भाजपा के स्टार प्रचारक रहने वाले है. एक राजनेता के रूप में, वह रैलियों के दौरान अपनी पार्टी के लिए समर्थन मांग रहे हैं. इस स्थिति में, टीकाकरण प्रमाणपत्रों में उनकी तस्वीर का इस्तेमाल मतदाताओं को प्रभावित करने और आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने जैसा है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज