Assembly Banner 2021

पश्चिम बंगाल चुनाव के लिए बड़ी तैयारी, जानिए इस बार राज्य में कैसा होगा इलेक्शन

 इन विधानसभा क्षेत्रों से निर्वाचित हुए विधायकों के निधन के कारण उपचुनाव होंगे. (पीटीआई फाइल फोटो)

इन विधानसभा क्षेत्रों से निर्वाचित हुए विधायकों के निधन के कारण उपचुनाव होंगे. (पीटीआई फाइल फोटो)

West Bengal Election2021: बंगाल को लेकर चुनाव आयोग (Election Commission) खासा सतर्क नजर आ रहा है. यहां सीएपीएफ की 125 कंपनियां भेजी गईं हैं. बंगाल में बीते विधानसभा चुनाव 6 चरणों में पूरे हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 1:17 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. विधानसभा चुनाव (Assembly Election) की तारीखों का जल्द ऐलान होने जा रहा है. इस साल पांच राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में चुनाव होने हैं. हालांकि, चुनाव आयोग पहले से ही पश्चिम बंगाल (West Bengal) के चुनावों को लेकर खासा चिंतित है. माना जा रहा है कि राज्य में इस बार 6-8 चरणों में वोटिंग हो सकती है. हालांकि, ऐसा पहली बार नहीं होगा. बीते 2016 विधानसभा चुनाव भी 6 चरणों में ही पूरे हुए थे. कयास लगाए जा रहे हैं की बोर्ड परीक्षा के चलते आयोग राज्य में 1 मई से पहले चुनाव करा सकता है.

पिछले चुनाव के हाल
बंगाल में बीते विधानसभा चुनाव 6 चरणों में पूरे हुए थे. 4 अप्रैल से लेकर 5 मई तक हुए चुनाव के नतीजे 19 मई को घोषित किए गए थे. आयोग ने सबसे पहले 4 और 6 अप्रैल को दो चरणों में नक्सल प्रभावित इलाकों में चुनावी प्रक्रिया पूरी कर ली थी. इन क्षेत्रों के बाद 21, 25, 30 अप्रैल औऱ 5 मई को राज्य के दसरे क्षेत्रों में चुनाव हुए थे. इसके अलावा आयोग राज्य में मतदान के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी अलर्ट है.

Youtube Video

यह भी पढ़ें: 5 राज्यों में शांतिपूर्ण चुनाव कराने के लिए केंद्रीय बल रवाना, अकेले बंगाल में तैनात होंगी 125 कंपनियां



बंगाल में सबसे बड़ी कंपनी
बंगाल को लेकर चुनाव आयोग खासा सतर्क नजर आ रहा है. यहां सीएपीएफ की 125 कंपनियां भेजी गईं हैं. चुनाव आयोग अधिकारियों के अनुसार, यहां केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की 60, सशस्त्र सीमा बल की 30, सीमा सुरक्षा बल की 25 और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की पांच-पांच कंपनियां होंगी. बंगाल में टुकड़ियों के जल्दी पहुंचने से राज्य प्रशासन हैरान हुआ है.

आमतौर पर सीएपीएफ की तैनाती इलाके में वर्चस्व और संवेदनशील इलाके में रहने वाले लोगों में भरोसा जगाने के लिए होती है. इस बार चुनाव आयोग ने बंगाल के हर जिले में बल को तैनात किया है. इससे पता चलता है कि आयोग बंगाल के सभी जिलों को काफी संवेदनशील मान रहा है. इससे पहले भी आयोग ने संकेत दिए थे कि वे बंगाल में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति पर कड़ी निगरानी करेंगे. हालांकि, पिछले चुनाव में भी राज्य में केंद्रीय सुरक्षा बलों के करीब 1 लाख जवानों की तैनाती की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज