नुमालीगढ़ रिफाइनरी में घुसा हाथियों का झुंड

कॉरिडोर न बनाए जाने से परेशान हाथी अक्कर इधर-उधर घुस जाते हैं, NGT भी कह चुका है कॉरिडोर बनाने को

News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 6:03 PM IST
News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 6:03 PM IST
असम के गोलाहाट स्थित नुमालीगढ़ रिफाइनरी में हाथियों का झुंड घुस आया.लोगों ने जब उन्हें भगाने की कोशिश की और गजराज को गुस्सा आ गया और वो आस पास के लोगों को दौड़ाने लगा. रिफाइनरी की दीवार गिरा कर वहां से हाथियों के आने जाने का कॉरिडोर बनाया जाना था. इसे संयोग ही कहा जा सकता है कि इस दौरान कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ.

इससे पहले भी हाथियों को लेकर वन विभाग और रिफाइनरी में खींच तान चलती रही है. ये भी दलील दी जाती रही है कि हाथियों के आने जाने की जगह रोके जाने के कारण हाथियों और दूसरे वन्य जीवों के लिए भारी मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. कई बार वे गांवों और लोगों की आबादी के बीच भी आ जाते हैं. इन्ही दलीलों के आधार पर मामले को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ले जाया गया.

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने रिफाइनरी को आदेश दिया था कि वो दीवार गिरा कर वहां से हाथियों के आने जाने का कॉरिडोर बनवाए. वन्य जीव के जानकारों की दलील है कि हाथियों को सुरक्षित रखने के लिए कॉरिडोर छोड़ना जरूरी है और ये इलाका किसी भी तरह के निर्माण के लिए प्रतिबंधित क्षेत्र के तहत आता है. हालांकि रिफाइनरी इससे इनकार करती रही है कि उसने यहां कोई निर्माण कराया है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर