डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज क्यों जरूरी, यहां समझिए

वैक्सीन का पहला डोज लेने पर शरीर में एंटीबॉडी बननी शुरू हो जाती है (Photo- news18 English via twitter)

Covid-19 Vaccination: ईएमए ने कहा, "प्रारंभिक साक्ष्य बताते हैं कि कोविड -19 वैक्सीन की दोनों खुराक डेल्टा संस्करण के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक हैं." साथ ही इसने कहा कि "उच्चतम स्तर की सुरक्षा के लिए टीकाकरण के पूरे कोर्स का पालन करना जरूरी है."

  • Share this:
    नई दिल्ली. यूरोपीय संघ (European Union) के ड्रग रेग्युलेटर ने बुधवार को कहा कि ज्यादा संक्रामक डेल्टा संस्करण (Delta Variant) के खिलाफ सुरक्षा के लिए दो-खुराक कोविड -19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के दोनों शॉट महत्वपूर्ण हैं. यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) और यूरोपियन सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल (ईसीडीसी) ने एक संयुक्त बयान जारी कर नागरिकों से टीके लगवाने और टीके की तय मात्रा का पालन करने का आग्रह किया है.

    डेल्टा संस्करण के तेजी से प्रसार ने कई यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों को या तो नए प्रतिबंध लगाने या पूरी तरह से अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने वाली पिछली योजनाओं से पीछे हटने के लिए मजबूर किया है. यूरोपीय सीडीसी ने अनुमान लगाया है कि अगस्त के अंत तक यूरोपीय संघ में फैले सभी कोरोनावायरस वैरिएंट के मामलों में डेल्टा वेरिएंट के मामले (बी.1.617.2) 90 प्रतिशत तक पहुंच जाएंगे.



    ये भी पढ़ें- गहलोत सरकार का अहम फैसला, 17% से बढ़ाकर 28% किया DA, फैसला 1 जुलाई से लागू

    सुरक्षा के लिए दोनों खुराक हैं जरूरी
    डेल्टा संस्करण के तेजी से फैलने की क्षमता और इससे जुड़े अस्पताल में भर्ती होने के उच्च जोखिम की संभावना पर प्रकाश डालते हुए, ईएमए ने टीकाकरण कार्यक्रमों में तेजी लाने और "प्रतिरक्षा अंतराल और वेरिएंट के आगे उभरने के मौकों को जल्द से जल्द बंद करने की आवश्यकता पर जोर दिया."

    ईएमए ने कहा, "प्रारंभिक साक्ष्य बताते हैं कि कोविड -19 वैक्सीन की दोनों खुराक डेल्टा संस्करण के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक हैं." साथ ही इसने कहा कि "उच्चतम स्तर की सुरक्षा के लिए टीकाकरण के पूरे कोर्स का पालन करना जरूरी है."

    टीकों के "मिश्रण और मिलान" पर बहस के बीच, ईएमए ने कहा कि कोविड -19 के खिलाफ टीकाकरण के लिए लागू होने पर विषम टीकाकरण रणनीति के सुरक्षित और प्रभावी होने की उम्मीद करने के लिए अच्छे वैज्ञानिक आधार हैं. एजेंसी ने कहा कि विषम टीकाकरण रणनीति, जिसमें 2-खुराक वाली वैक्सीन में दूसरी खुराक के लिए एक अलग टीका दिया जाता है. यह आबादी को ज्यादा तेज़ी से सुरक्षित करने और उपलब्ध टीका आपूर्ति का बेहतर उपयोग करने में मदद कर सकती है.

    हालांकि, इसमें कहा गया है कि ईएमए और ईसीडीसी दो खुराक के लिए अलग-अलग कोविड -19 टीकों के उपयोग पर "कोई निश्चित सिफारिश करने की स्थिति में नहीं हैं."



    इसने कहा "फिर भी, स्पेन, जर्मनी और यूके में अध्ययनों के प्रारंभिक परिणाम संतोषजनक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया और सुरक्षा से जुड़ी किसी परेशानी की ओर इशारा नहीं करते हैं.  इस पर जल्द ही और डेटा की प्रतीक्षा की जा रही है. डेटा मिलने के बाद ईएमए इस पर अपनी समीक्षा करना जारी रखेगा."

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.