अपना शहर चुनें

States

Corona Vaccine Update: भारत में तीन कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी अप्रूवल पर कल हो सकता है फैसला - सूत्र

फाइजर ने उसके कोविड-19 (COVID-19) टीके को ब्रिटेन और बहरीन में ऐसी ही मंजूरी मिलने के बाद यह अनुरोध किया है.
फाइजर ने उसके कोविड-19 (COVID-19) टीके को ब्रिटेन और बहरीन में ऐसी ही मंजूरी मिलने के बाद यह अनुरोध किया है.

Vaccine Update: एक्सपर्ट्स फाइजर (Pfozer) के ट्रांसपोर्ट में आने वाली परेशानियों को लेकर चिंतित हैं. फाइजर को हर समय -70 डिग्री सेल्सियस तापमान में रखे जाने की जरूरत होती है. हालांकि, कंपनी ने इस बात का भरोसा दिया है कि वह इस तरह की चुनौतियों के लिए तैयार है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 11:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) वैक्सीन को लेकर हलचल बढ़ गई है. लगातार वैक्सीन कंपनियां देश में इमरजेंसी अप्रूवल (Emergency Approval) के लिए आवेदन देने लगी हैं. हाल ही में खबर आई है कि एक एक्सपर्ट्स पैनल कल इन वैक्सीन के आपातकाल उपयोग को लेकर दिए गए आवेदनों की समीक्षा करेगी. भारत में इमरजेंसी अप्रूवल के लिए तीन कंपनियों ने आवेदन किया है. इनमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India), फाइजर और भारत बायोटेक (Bharat Biotech) का नाम शामिल है.

सूत्रों के मुताबिक, वैक्सीन मामले में एक्सपर्ट पैनल इन कंपनियों के आवेदनों पर विचार कर सकती है. सूत्रों ने बताया कि सोमवार को हैदराबाद की भारत बायोटेक ने भी अपनी वैक्सीन कोवैक्सिन के लिए आवेदन दिया है. इस क्रम में सबसे पहले अमेरिकी कंपनी फाइजर ने आवेदन किया था, जिसके बाद सीरम इंस्टीट्यूट ने भी इमरजेंसी अप्रूवल की मांग की है.

यह भी पढ़ें: Corona Vaccine: फाइजर के कोरोना वैक्‍सीन को भारत में मंजूरी मुश्किल, इस शर्त पर अटकी बात



सूत्र बताते हैं कि एक्सपर्ट्स पैनल मामलों पर विचार करने के बाद ड्रग रेग्युलेटर से बात करेगी. खास बात है कि एक वैक्सीन को इमरजेंसी उपयोग की अनुमति तब ही दी जा सकती है, जब वह सुरक्षित और असरदार हो. हालांकि, आखिरी अप्रूवल सफल ट्रायल और पूरे डेटा की जांच के बाद ही दिया जाएगा. बीते हफ्ते फाइजर को आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमति देने वाला ब्रिटेन पहला देश बना था. कहा जा रहा था कि यह वैक्सीन 95 फीसदी तक असरदार है.

गौरतलब है कि एक्सपर्ट्स फाइजर के ट्रांसपोर्ट में आने वाली परेशानियों को लेकर चिंतित हैं. फाइजर को हर समय -70 डिग्री सेल्सियस तापमान में रखे जाने की जरूरत होती है. हालांकि, कंपनी ने इस बात का भरोसा दिया है कि वह इस तरह की चुनौतियों के लिए तैयार है. बता दें कि डीसीजीआई की तरफ से मिलने वाले इमरजेंसी अप्रूवल के बाद वैक्सीन को सीमित समय और खास वर्ग के लोगों को ही लगाया जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज