लाइव टीवी

पाकिस्तान के विरोध में हुई रैली के बाद PoK में इमरजेंसी लागू, हिरासत में लिए गए बड़े नेता

News18Hindi
Updated: October 23, 2019, 7:03 PM IST
पाकिस्तान के विरोध में हुई रैली के बाद PoK में इमरजेंसी लागू, हिरासत में लिए गए बड़े नेता
भारी हंगामे और विरोध प्रदर्शन के बाद पीओके में इमरजेंसी लागू की गई है.

पीओके (PoK) में स्वतंत्र राजनीतिक पार्टियों के संगठन ऑल इंडीपेंडेंट पार्टीज अलायंस (AIPA) ने एक रैली का आयोजन किया था. पीओके के लोगों को पाकिस्तान (Pakistan) से आजादी दिलाने की मांग के लिए ये रैली की गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2019, 7:03 PM IST
  • Share this:
मुजफ्फराबाद. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (Pakistan Occupied Kashmir) में इमरजेंसी लगा दी गई है. पीओके (PoK) में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है. पीओके के कई बड़े नेताओं को हिरासत में लिया गया है. इलाके में किसी को भी रैली की इजाजत नहीं है. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में यह फैसला बुधवार को हुई रैली के बाद लिया गया. पीओके के लोगों को आजादी दिलाने के मकसद से मुजफ्फराबाद (Muzaffarabad) में रैली का आयोजन किया गया था. इस रैली का आयोजन स्वतंत्र राजनीतिक पार्टियों के संगठन ऑल इंडीपेंडेंट पार्टीज अलायंस (एआईपीए) ने किया था.

पाक अधिकृत कश्मीर में आजादी के लिए विरोध प्रदर्शन काफी लंबे समय से चल रहा है. पीओके के लोग पाकिस्तान (Pakistan) के शासन से आजादी चाहते हैं. हालिया विरोध प्रदर्शन सोमवार रात से शुरू हुए थे जहां लोगों ने इकट्ठा होकर पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए थे. लोगों का कहना था कि वह पाकिस्तान की सरकार और सेना के अवैध कब्जे से आजादी चाहते हैं.


Loading...

दो प्रदर्शनकारियों की मौत, कई घायल
मुजफ्फराबाद में बुधवार को पुलिस की लाठीचार्ज में जहां दो लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए. आम लोगों पर लाठियां बरसाने के बाद वहां की पुलिस ने प्रेस क्लब में भी छापा मारा. छापे के दौरान हुई हिंसा में कई पत्रकार घायल हो गए. यही नहीं पुलिस ने उनके कैमरे और अन्य सामानों को भी नुकसान पहुंचाया.

पुलिस की यह छापेमारी उस वक्त हुई जब यहां जम्मू-कश्मीर पीपल्स नेशनल अलाइंस की पत्रकार बैठक चल रही थी. मुजफ्फराबाद में यह एक दिन में ऐसी दूसरी घटना है, जिसमें पाकिस्तान पुलिस का क्रूर चेहरा दिखाई दिया.

पाकिस्तान के अवैध कब्जे के खिलाफ चल रहा है विरोध
आपको बता दें पाकिस्तान ने 22 अक्टूबर 1947 को जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में जबरन घुसकर उस पर कब्जा जमा लिया था. पाकिस्तान की इसी घुसपैठ के विरोध में राजनीतिक पार्टियां इस दिन को काला दिवस के रूप में मनाती हैं. इसी के चलते सोमवार से ही वहां लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था.

ये भी पढ़ें-

कश्मीर पर PAK का दिया साथ, अब तुर्की-मलेशिया को ऐसे सबक सिखाएगा भारत
नवाज शरीफ को मारने की साजिश! बेटे ने सेना पर लगाया जहर देने का आरोप

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 5:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...