पुलवामा में सुरक्षाबल और आतंकियों की मुठभेड़ जारी, सेना के 4 जवान शहीद

News18Hindi
Updated: February 18, 2019, 11:25 AM IST

पुलवामा में ही 14 फरवरी यानी गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर फिदायीन हमला हुआ था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे और कई अन्य घायल हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2019, 11:25 AM IST
  • Share this:
दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के पिंगलान इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच रविवार रात से जारी मुठभेड़ में एक मेजर समेत सेना के 4 जवान शहीद हो गए हैं. इस मुठभेड़ में एक आम नागरिक की भी मौत हुई है. घटना के मद्देनजर पुलवामा में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं.

चारों शहीद सेना के 55 राष्ट्रीय राइफल्स के हैं. शहीदों में मेजर वीएस ढौंडियाल, हवलदार शेव राम, सिपाही अजय कुमार और सिपाही हरी सिंह शामिल हैं.

मुठभेड़ में सेना ने जैश-ए-मोहम्मद के दो शीर्ष कमांडरों को मार गिराया है. इनमें से एक अब्दुल रशीद गाजी है जिसे पिछले दिनों सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले का मास्टरमाइंड माना जा रहा है. वहीं, जैश कमांडर कामरान भी इस हमले में मारा गया है.

फारूक अब्दुल्ला बोले- जब तक कश्मीर मसला नहीं सुलझ जाता, पुलवामा जैसे अटैक होते रहेंगे

बता दें कि 14 फरवरी यानी गुरुवार को पुलवामा में ही सीआरपीएफ के काफिले पर फिदायीन हमला हुआ था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे और कई अन्य घायल हुए थे. इस घटना के बाद सेना और सुरक्षाबल एक्शन में हैं.

इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. पाकिस्तानी संगठन की तरफ से हमले की जिम्मेदारी लेने के बाद भारत ने पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर अलग-थलग करने की कोशिशें तेज कर दी है.

कश्मीर आने-जाने के दौरान CRPF काफिले के मूवमेंट को लेकर बदलेंगे नियम
Loading...

दो दिन पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ट्विटर पर जानकारी दी थी कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया गया है और इस फैसले के साथ ही पाकिस्तान से आने वाले सामानों पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर 200 प्रतिशत कर दिया गया है.

वहीं दूसरी तरफ सरकार ने जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा भी वापस ले ली है. जिन नेताओं से सुरक्षा वापस ली गई है उनमें मीरवाइज उमर फारूक, शब्बीर शाह, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी, अब्दुल गनी बट और फजल हक कुरैशी शामिल हैं. सरकारी आदेश के मुताबिक रविवार शाम को ही इन नेताओं की सुरक्षा में तैनात जवानों और गाड़ियों को हटा लिया गया है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2019, 7:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...