Assembly Banner 2021

चुनाव आयोग के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को कोरोना वैक्‍सीन लगना शुरू

चुनाव आयोग में कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरूआत हो गई है.  (फाइल फोटो)

चुनाव आयोग में कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरूआत हो गई है. (फाइल फोटो)

चुनाव आयोग में कोविड-19 टीकाकरण (Covid-19 Vaccination) अभियान की शुरुआत हो गई है. यहां के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को टीका लगाया जाएगा. मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने हाल में घोषणा की थी कि आगामी विधानसभा चुनावों के लिए चुनावी ड्यूटी में तैनात किए जाने वाले सभी कर्मचारियों को ‘अग्रिम मोर्चे का कर्मी’ घोषित किया गया है और चुनावी ड्यूटी से पहले उन्हें टीका लगाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 10:10 PM IST
  • Share this:
नयी दिल्ली. चुनाव आयोग ने निर्वाचन सदन में काम करने वाले अपने अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए बृहस्पतिवार को कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की. टीके की पहली खुराक पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त एम एस गिल ने ली. आयोग के कर्मचारियों और अधिकारियों ने बड़े उत्‍साह से इसमें हिस्‍सा लिया और पहला वैक्‍सीन लगवाया.

एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि आयोग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को टीका लगाए जाने के बाद मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र और राजीव कुमार टीका लगवाएंगे. अरोड़ा ने हाल में घोषणा की थी कि आगामी विधानसभा चुनावों के लिए चुनावी ड्यूटी में तैनात किए जाने वाले सभी कर्मचारियों को ‘अग्रिम मोर्चे का कर्मी’ घोषित किया गया है और चुनावी ड्यूटी से पहले उन्हें टीका लगाया जाएगा.

ये भी पढ़ें  वैक्सीन सर्टिफिकेट पर छपी PM मोदी की फोटो पर आपत्ति, DYFI ने EC से की शिकायत



अरोड़ा ने कहा था कि टीकाकरण से चुनावी ड्यूटी पर तैनात अधिकारी कोविड-19 से डरे बगैर अपना काम कर सकेंगे. आयोग ने 26 फरवरी को असम, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव कराने की घोषणा की थी. बयान में कहा गया कि विशेष टीकाकरण अभियान के तहत पांचों राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेश में लाखों चुनाव कर्मियों को टीका लगाया जाएगा.
ये भी पढ़ें  पांच राज्यों के चुनाव में पंजाब के 38 IAS और 16 IPS अधिकारी पर्यवेक्षक नियुक्त

चुनाव आयोग ने अधिकारियों और  कर्मचारियों को सुरक्षा देने के लिए उठाया कदम

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चार राज्यों और केंद्र शासित पुडुचेरी को मिलाकर कुल 824 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा और इस दौरान कुल 18.68 करोड़ मतदाता 2.7 लाख मतदान केंद्रों पर मतदान करने के पात्र होंगे. ऐसे में बड़ी संख्‍या में लोग मतदान केंद्रों पर पहुंच कर अपने अधिकार का प्रयोग करेंगे ऐसे में चुनाव गतिविधियों में जुटे अधिकारी-कर्मचारी सुरक्षित रहें, इसलिए यह कदम उठाया गया है.

निर्वाचन आयोग ने पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. इन चार राज्यों और केंद्र शासित पुडुचेरी में 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच अलग-अलग चरणों में मतदान संपन्न होगा. मतों की गिनती दो मई को होगी. पश्चिम बंगाल में 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच आठ चरणों में, जबकि असम में 27 मार्च से छह अप्रैल के बीच तीन चरणों में मतदान संपन्न होगा, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में एक चरण में छह अप्रैल को मतदान होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज