दविंदर सिंह के खिलाफ पर्याप्त सबूत, जल्द ही दाखिल करेंगे चार्जशीट : NIA

दविंदर सिंह के खिलाफ पर्याप्त सबूत, जल्द ही दाखिल करेंगे चार्जशीट : NIA
बर्खास्त DSP दविंदर सिंह की फाइल फोटो

एक संक्षिप्त बयान में एनआईए (NIA) के प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की ओर से दाखिल मामले में दविंदर सिंह न्यायिक हिरासत (Judicial Custody)) में रहेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने शुक्रवार को कहा कि आतंकी मामले (Terror Case) में गिरफ्तार (Arrest) किए गए जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के सस्पेंड हो चुके पुलिस उपाधीक्षक दविंदर सिंह (Suspended DSP Davinder Singh) के खिलाफ उसके पास पर्याप्त सबूत हैं. कुछ समय में उसके खिलाफ आरोपपत्र (Charge sheet) दाखिल किया जाएगा .

एक संक्षिप्त बयान में एनआईए (NIA) के प्रवक्ता ने बताया कि एजेंसी की ओर से दाखिल मामले में दविंदर सिंह न्यायिक हिरासत (Judicial Custody)) में रहेगा.

हमारे पास दविंदर के खिलाफ पर्याप्त सबूत, कुछ समय में दाखिल करेंगे आरोपपत्र : NIA
एनआईए ने एक बयान में कहा, ‘‘हमारे पास उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं और कुछ समय में उसके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया जाएगा.’’
दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल एक अलग मामले में दविंदर सिंह को शुक्रवार को जमानत दे दी गयी .



दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों को साथ ले जाते समय 11 जनवरी को पकड़ा गया था
दक्षिण कश्मीर में दो आतंकवादियों को साथ ले जाते समय दविंदर सिंह को 11 जनवरी को पकड़ा गया था. एनआईए ने 18 जनवरी को आतंकी मामले की जांच अपने हाथ में ले ली.

यह भी पढ़ें:- केरल कांग्रेस अध्यक्ष ने स्वास्थ्य मंत्री शैलजा का कोविड रानी कहकर उड़ाया मजाक

दविंदर सिंह के अलावा दो अन्य आतंकी हिज्बुल मुजाहिदीन के स्वयंभू कमांडर सैयद नवीद मुश्ताक अहमद उर्फ नवीद बाबू तथा रफी अहमद राठेर को गिरफ्तार किया गया. खुद को वकील बताने वाले इरफान शफी मीर को भी पकड़ा गया था. बाद में 23 जनवरी को नवीद के भाई सैयद इरफान अहमद को भी गिरफ्तार किया गया.

आतंकियों को देता था पनाह
सूत्रों के मुताबिक, दविंदर ने आतंकियों को पनाह देने के लिए तीन अलग-अलग घर बना रखे थे. दविंदर ने न सिर्फ अपने श्रीनगर के इंदिरानगर के घर पर आतंकियों के रहने का इंतजाम किया, बल्कि चानपोरा और सनत नगर इलाकों में भी उनके रहने की व्यवस्था की. आरोप है कि ये घर निर्दोष लोगों को आतंकवाद के मामले में फंसाकर उनसे लिए गए पैसे से बनाए गए.

28 साल पहले भी हुआ था सस्पेंड
साल 1992 में दक्षिण कश्मीर में ट्रक में ड्रग्स की खेप बरामद करने के साथ तस्कर भी पकड़ा गया था. आरोप है कि बाद में पैसे लेकर उसने मामला खत्म कर दिया और ड्रग्स भी बेच डाली. इस मामले की जांच हुई और दविंदर को सस्पेंड कर दिया गया. बाद में उसने माफी मांग ली और उसे फिर से बहाल कर दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज