पुलवामा अटैक: सरकार के साथ पूरा विपक्ष, सर्वदलीय बैठक में ये 3 प्रस्ताव पास

पुलवामा अटैक: सरकार के साथ पूरा विपक्ष, सर्वदलीय बैठक में ये 3 प्रस्ताव पास
पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक खत्म होने के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह और सीपीआई नेता डी राजा, फोटो साभार- पीटीआई

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने यह भी कहा कि 1947 के बाद युद्ध छोड़कर पहली बार किसी हमले में इतनी बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की जान गई है.

  • Share this:
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बारे में विपक्षी दलों को पूरी जानकारी देने और भारत के अगले कदम के बारे में चर्चा करने के लिए दिल्ली में शनिवार को सर्वदलीय बैठक हुई. गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में आतंक के खिलाफ लड़ाई में सरकार को विपक्ष का पूरा साथ मिला है. इस बैठक में 3 अहम प्रस्ताव भी पास हुए, जिसमें साफ कहा गया है कि हम हर रूप में आतंकवाद और सीमा-पार से उसे मिल रहे समर्थन की निंदा करते हैं.

बैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हम सब देश की एकता के लिए सरकार और सुरक्षा बलों के साथ खड़े हैं. आजाद ने कहा, 'कश्मीर हो या देश का कोई और हिस्सा, कांग्रेस पार्टी आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सरकार के साथ है.

न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए आजाद ने बताया कि बैठक में हमने गृहमंत्री से निवेदन किया था कि आप हमारी तरफ से प्रधानमंत्री को कहिए कि वे देश के सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों के साथ एक बैठक करें. देश आज शोक मना रहा है और गुस्से में है.



गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने यह भी कहा कि 1947 के बाद युद्ध छोड़कर पहली बार किसी हमले में इतनी बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की जान गई है. हम अपने सुरक्षा बलों (आर्मी, सीआरपीएफ, लोकल पुलिस) के साथ खड़े हैं. पूरा देश उनके साथ है.
बैठक में प्रस्ताव हुआ पास

गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई सर्वदलीय बैठक में एक तीन सूत्रीय प्रस्ताव भी पास हुआ. इसमें सभी ने पुलवामा हमले की एक सुर में निंदा की. इसके तहत 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा की गई. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए है. इसमें कहा गया है कि हम अपने देशवासियों के साथ शोकाकुल परिवार के साथ हैं.

ये भी पढ़ें: शहीदों के परिजनों के लिए उठे मदद के हाथ, सीएम रघुवर समेत सभी मंत्री देंगे एक महीने का वेतन

प्रस्ताव में कहा गया है कि हम हर तरह के आतंकवाद और सीमा पार से उसे मिल रहे समर्थन की निंदा करते हैं. प्रस्ताव में कहा गया है कि हम भारत की एकता और अखंडता की रक्षा करते हुए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हमारे सुरक्षा बलों के साथ एकजुटता से खड़े हैं.

ये भी पढ़ें: देवरिया में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के पोस्टर, PM इमरान खान का फूंका पुतला

वहीं इस बैठक के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा कि पठानकोट और उरी हमले के बाद भी प्रस्ताव पास हुए थे. हमने केंद्र सरकार से कहा कि अब कार्रवाई करनी चाहिए.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज