Home /News /nation /

पर्यावरण बाबा ने किया 'यज्ञ' से दिल्ली में छाई धुंध पर अंकुश लगाने का वादा

पर्यावरण बाबा ने किया 'यज्ञ' से दिल्ली में छाई धुंध पर अंकुश लगाने का वादा

Environment Baba's automated chariot (Picture courtesy: News18)

Environment Baba's automated chariot (Picture courtesy: News18)

  • CNN-News18
  • Last Updated :
    दिवाली के बाद से दिल्ली-एनसीआर के आसमान में छाई धुंध ने हर किसी को परेशान कर दिया है. एनजीटी से लेकर सरकारें तक सभी इसको लेकर चिंतित हैं. लेकिन इससे निजात कैसे पाई जाए ये कोई भी तय नहीं कर पाया है. दिल्ली सरकार जहां इसके पीछे पड़ोसी राज्यों में गेहूं की पुराली जलाने को बड़ी वजह बता रही है, तो वहीं केंद्र सरकार जनजागरूकता की कमी को सबसे बड़ी वजह मानती है.

    इसी बीच पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए महामंडलेश्वर श्रीश्री 1008 अनंत विभूषित अवधूत बाबा अरुणगिरि महाराज (पर्यावरण बाबा) ने एक नया तरीका अख्तियार करते हुए वैष्णो देवी से कन्याकुमारी तक की 4500 किलोमीटर की रथ यात्रा आरंभ की है. बाबा का यह ऑटोमेटिक रथ फिलहाल राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में है. उनके इस प्रयास में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता इंद्रेश कुमार भी सहायता प्रदान कर रहे हैं.

    ऋषिकेश में रहने वाले पर्यावरण बाबा ने न्यूज18 को बताया कि दिल्ली में पर्यावरण की शुद्धि के लिए हिमालय में उगी औषधीय जड़ी-बूटियों से किए गए "यज्ञ" से इस तरह के हालात को नियंत्रित करने की जरूरत है.

    उन्होंने कहा कि यज्ञ के माध्यम से जहां परमात्मा वातावरण को साफ रखते हैं, वहीं सब 33 करोड़ देवी-देवता भी खुश रहते हैं.

    उन्होंने कहा कि कई अन्य देशों ने भी इस पुरानी प्रथा में विश्वास दिखाया है. जापान में भी भूकंप को नियंत्रित करने के लिए एक 'यज्ञ' किया गया था. यह चिकनगुनिया जैसी बीमारियों का इलाज करने में भी कारगर है. वहीं अब यह वैज्ञानिक रूप से भी सिद्ध हो गया है कि हिमालय से प्राप्त "जड़ी-बूटियां" प्रदूषण को खत्म कर सकती हैं,

    इंद्रेश कुमार फिलहाल चंडीगढ़ में है और वह दिल्ली में पर्यावरण बाबा के पहले दिन के यज्ञ में भाग नहीं ले सकेंगे, लेकिन इस मिशन में वो भी अपना पूरा समर्थन दे रहे हैं.

    इंद्रेश कुमार ने कहा कि प्रदूषण के दानव से लड़ने के लिए हमें यज्ञ का आयोजन करने के साथ ही अधिक से अधिक पेड़-पौधे भी लगाने होंगे. वहीं प्रदूषण के कारकों को मारने के लिए अगर हम गोमूत्र और जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करेंगे तो इसके काफी सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे.

    Tags: Air pollution, Avdhoot Baba

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर