ई. राकेश रौशन के हाथों में है LJP आईटी सेल बिहार प्रदेश की बागडोर

ई. राकेश रौशन के हाथों में है LJP आईटी सेल बिहार प्रदेश की बागडोर
राजनीति में राकेश रौशन की सक्रियता एवं कार्यकुशलता के चलते वे अल्प समय में ही एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान के करीबी हो गए हैं.

राजनीति में राकेश रौशन की सक्रियता एवं कार्यकुशलता के चलते वे अल्प समय में ही एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान के करीबी हो गए हैं.

  • Share this:
ई. राकेश रौशन, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के करीबी सिपहसलारों में जाने जाते हैं. वर्तमान में वे पार्टी की आईटी सेल की अध्यक्षता कर रहें है और आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के तहत संगठन विस्तार तथा पार्टी को नई दिशा देने में प्रयासरत हैं. राकेश रौशन बताते हैं कि उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि पुरानी है. उनकी मां राघोपुर विधानसभा से जदयू के टिकट पर राबड़ी देवी के खिलाफ चुनाव लड़ चुकी हैं.

सन् 2016 में पटना शहर में उनके पिता की हत्या कर दी गई जिसके बाद वे चेन्नई से अपना आईटी कम्पनी का सफल व्यवसाय छोड़कर अपने गृहराज्य आ गए और पूर्णतः राजनीति एवं जनसेवा को समर्पित हो गए. अपने पिता की स्मृति में "वीर बृजनाथी सिंह सेवा संस्थान" अपने गृह जिले वैशाली में जन सेवार्थ प्रारम्भ किया जहां हज़ारों की संख्या में जरूरतमंद लाभान्वित हो रहें है.

राजनीति में भी रौशन की सक्रियता एवं कार्यकुशलता के चलते वे अल्प समय में ही एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान के करीबी हो गए और उनकी प्रतिभा को देखते हुए चिराग पासवान ने 2017 में पार्टी के बिहार प्रदेश के आईटी सेल की कमान राकेश के हाथों में सौंप दी. विगत 3 वर्षों में सिंह ने अपनी कुशलता एवं प्रतिभा के दम पर स्वयं की. अलग पहचान तो बनाई ही इसके अतिरिक्त संगठन को अलग ऊंचाइयों पर ले जाने का कार्य भी किया.



आज बिहार के हर जिले में पार्टी आईटी सेल की एक सकिय टीम है जिसे राकेश स्वयं मॉनिटर करते हैं. 3 साल के परिश्रम और पार्टी के लिए उनकी कैम्पेनिंग का ही परिणाम है कि आज सोशल मीडिया पर लोजपा का प्रचार-प्रसार मुख्यधारा में दिखता है. 'रौशन' चर्चा करते हैं कि वे लोकसभा चुनाव के दौरान लोजपा का गढ़ रहे हाजीपुर में भी मुख्य भूमिका में रहे थे.
पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान ने उन पर विश्वास जता कर अपने संसदीय क्षेत्र जमुई के तारापुर तथा समस्तीपुर के वारिसनगर का प्रभारी बनाकर संगठन की सेवा का मौका दिया था. अब वर्तमान में भी यह पार्टी अध्यक्ष का भरोसा तथा राकेश के कठिन परिश्रम व पार्टी को समर्पण का फल ही है कि चिराग पासवान ने राकेश को मुख्य विपक्षी तेजस्वी यादव के खिलाफ चुनाव में उतारने का मन बना लिया है. राकेश रौशन स्वयं भी राघोपुर विधानसभा से चुनाव लड़ने की तैयारी में जोरो शोरों से जुटे हैं और 'एनडीए की तरफ से टिकट की दावेदारी भी कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading