लाइव टीवी

EU सांसदों ने कहा-कश्मीर में आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या, PAK करता है फंडिंग

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 12:43 PM IST
EU सांसदों ने कहा-कश्मीर में आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या, PAK करता है फंडिंग
EU सांसद ने कहा- कश्मीर में आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या, Pak करता है फंडिंग

EU के एक सांसद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकवाद (Terrorism) सबसे बड़ी समस्या है और पाकिस्तान (Pakistan) आतंकियों को फंडिंग मुहैया करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 12:43 PM IST
  • Share this:
कश्मीर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद कश्मीर (Kashmir) में वास्तविक स्थिति के बारे में जानने आए 23 यूरोपीय सांसदों ने आतंकवाद को वैश्विक समस्या बताया है. EU के एक सांसद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद (Terrorism) सबसे बड़ी समस्या है. पाकिस्तान (Pakistan) आतंकियों को फंडिंग मुहैया करता है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ हम भारत का पुरजोर समर्थन करते हैं.

यूरोपीय सांसदों ने कहा कि कश्मीर के लोग शांति और विकास चाहते हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस दौरे को राजनीतिक नजर से न देखा जाए. यूरोपीय संसद के सदस्य थेरी मरियानी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'मैं करीब 20 बार भारत आ चुका हूं. इससे पहले दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जैसे शहरों में गया था. हमारा मकसद जम्मू-कश्मीर के हालात के बारे में जानकारी हासिल करने का है. कश्मीर में हालात अब लगभग सुलझने को हैं.'

EU डेलीगेशन के एक सांसद ने कहा कि आतंकवाद वैश्विक समस्या है, जिससे हम सभी लोग जूझ रहे हैं. इस मुद्दे पर हम सबको भारत का समर्थन करना चाहिए.' उन्होंने कहा कि हमने अपने दौरे पर सामाजिक कार्यकर्ताओं से बात की, जिन्होंने घाटी में शांति को लेकर अपना विजन रखा.

EU सांसद ने कहा- भारत का इतिहास हमेशा शांति का रहा

वहीं, यूनाइटेड किंगडम के यूरोपीय सांसद बिल न्यूटन ने मंगलवार को बंगाल के मजदूरों की हत्या को दर्दनाक बताया. उन्होंने कहा कि आतंकियों की ओर से ऐसी हत्याएं दिल दहला देने वाली हैं. न्यूटन ने कहा कि भारत का इतिहास हमेशा शांति का रहा है. हमने सिविल सोसाइटी के कई लोगों से बात की. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने यहां केंद्र सरकार से आने वाले पैसों में भ्रष्टाचार की बात कही.

EU 23 सांसद गए जम्मू-कश्मीर
गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद यूरोपीय संघ (EU) के 23 सांसदों का प्रतिनिधिमंडल कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचा था. 27 सांसदों को मंगलवार को कश्मीर जाना था, लेकिन चार दिल्ली से वापस लौट गए. बताया जा रहा है कि इन चारों सांसदों ने बिना सुरक्षा के घाटी के लोगों से मुलाकात की मांग की थी, जिसे सरकार ने ठुकरा दिया था.
Loading...

ये भी पढ़ें: नोटबंदी जैसा बड़ा कदम उठाने जा रही है मोदी सरकार, घर में रखे सोने की देनी होगी जानकारी

EU सांसदों का कश्मीर दौरा: कांग्रेस के विरोध पर BJP बोली- आप भी जाइए, किसने रोका है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 12:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...