Home /News /nation /

EU कर रहा नए यात्रा नियमों की तैयारी, 'ओमनिक्रॉन' की चपेट में कई यूरोपीय देश

EU कर रहा नए यात्रा नियमों की तैयारी, 'ओमनिक्रॉन' की चपेट में कई यूरोपीय देश

सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने के महज कुछ दिनों बाद ही कोरोना वायरस के संभवत: अधिक संक्रामक नए स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ ने कई और यूरोपीय देशों को अपनी चपेट में ले लिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने के महज कुछ दिनों बाद ही कोरोना वायरस के संभवत: अधिक संक्रामक नए स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ ने कई और यूरोपीय देशों को अपनी चपेट में ले लिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Coronavirus in Europe: खबर है कि EU के देश असमान टीकाकरण (Covid-19 Vaccination) के चलते भी परेशान हैं. महामारी की चौथी लहर से निपटने के लिए संघ पाबंदियों का सहारा ले रहा है. जर्मनी ने ज्यादा जोखिम वाले समूहों को अनिवार्य रूप से वैक्सीन देने पर विचार जारी है. इटली में टीकाकरण नहीं कराने वाले लोगों पर कुछ प्रतिबंध लगा दिए हैं. वहीं, डेनमार्क सार्वजनिक वाहनों में मास्क का इस्तेमाल जरूरी करने पर विचार कर रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    ब्रुसेल्स. यूरोपियन संघ (EU) यात्रा से जुड़े नियमों में बदलाव की तैयारी कर रहा है. इसमें कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ वैक्सीन को लेकर समयावधि की योजना भी शामिल है. इसके तहत वैक्सीन प्राप्त व्यक्ति 9 महीनों की वैधता के साथ संघ और समूह देशों में यात्रा की अनुमति की सिफारिश की गई है. साथ ही EU ने वैक्सीन हासिल कर चुके यात्रियों को प्राथमिकता देने का फैसला भी किया है. संघ के कई देशों में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमनिक्रॉन की दस्तक हो चुकी है.

    ब्लूमबर्ग को मिले दस्तावेजों के अनुसार, यूरोपीय आयोग ने प्रस्ताव दिया है कि सदस्य देश उन यात्रियों को आने दे समूह की तरफ से मंजूरी प्राप्त वैक्सीन हासिल कर चुके हैं. साथ ही इसमें देशों से विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से मंजूरी हासिल कर चुकी वैक्सीन लेने वाले यात्रियों के लिए 10 जनवरी से दोबारा चीजें शुरू करने की बात कही है. EU के जस्टिस कमिश्नर डिडियर रेंडर्स ने गुरुवार को नए आंतरिक यात्रा व्यवस्था की घोषणा की है.

    खास बात है कि यह व्यवस्था देशों में कोरोना संक्रमण के मामले से ज्यादा व्यक्ति की टीकाकरण की स्थिति और उसके उबरने पर आधारित है. नई अपडेट्स में कोविड टीकाकरण की वैधता पर बात की गई है. इसमें बताया गया है कि 9 महीनों के समय के बाद बूस्टर की जरूरत होगी. हालांकि, EU का कहना था कि वह बूस्टर शॉट पर आधारित सर्टिफिकेट पर समयावधि जारी करने के लिए तैयार नहीं था.

    यह भी पढ़ें: कोरोना के नए वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ का मुकाबला करने के लिए क्या है भारत की तैयारी, जानें 10 बड़ी बातें

    कोरोना से नई जंग के लिए तैयार हो रहा ईयू
    खबर है कि EU के देश असमान टीकाकरण के चलते भी परेशान हैं. महामारी की चौथी लहर से निपटने के लिए संघ पाबंदियों का सहारा ले रहा है. जर्मनी ने ज्यादा जोखिम वाले समूहों को अनिवार्य रूप से वैक्सीन देने पर विचार जारी है. इटली में टीकाकरण नहीं कराने वाले लोगों पर कुछ प्रतिबंध लगा दिए हैं. वहीं, डेनमार्क सार्वजनिक वाहनों में मास्क का इस्तेमाल जरूरी करने पर विचार कर रहा है.

    यूरोप में मामले बढ़ने के साथ EU देशों की उस ‘व्हाइट लिस्ट’ को खत्म करने की तैयारी कर रहा है, जिसमें 1 मार्च से टीकाकरण की परवाह किए बगैर यात्रियों को अनुमति दी जा रही थी. रिपोर्ट्स के अनुसार, संशोधित नियमों में 6-17 साल के उन बच्चों को EU में यात्रा की इजाजत होगी, जिन्होंने रवाना होने से पहले नेगेटिव PCR जांच कराई थी. सभी प्रस्ताव सदस्य देशों को मंजूरी के लिए भेजे गए हैं.

    ओमनिक्रॉन का कहर
    भाषा के अनुसार, सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने के महज कुछ दिनों बाद ही कोरोना वायरस के संभवत: अधिक संक्रामक नए स्वरूप ‘ओमिक्रॉन’ ने कई और यूरोपीय देशों को अपनी चपेट में ले लिया है, जिसके कारण दुनिया भर की सरकारों को इसे नियंत्रित करने के लिए कदम उठाने को मजबूर होना पड़ा है. ब्रिटेन ने ओमिक्रॉन से संक्रमण के दो मामले आने के बाद शनिवार को मास्क पहनने और अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के आगमन संबंधी नियमों को सख्त कर दिया. जर्मनी और इटली में भी शनिवार को ओमिक्रॉन स्वरूप से संक्रमण की पुष्टि हुई. बेल्जियम, हांगकांग और इजराइल पहुंचने वाले यात्रियों में भी वायरस के इस स्वरूप का संक्रमण मिला है.

    Tags: Coronavirus, Covid-19 Update, EU, Europe, Omicron, Vaccination

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर