कोरोना वायरस की उत्पत्ति के अध्ययन के लिये सभी का सहयोग जरूरी

कोरोना की उत्तपत्ति को लेकर विश्व के कई देश चिंता जाहिर कर चुके हैं.

कोरोना की उत्तपत्ति को लेकर विश्व के कई देश चिंता जाहिर कर चुके हैं.

Coronavirus: डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों द्वारा चीन में महामारी के केंद्र वुहान सहित अन्य स्थानों पर अभियान के संचालन के तौर तरीकों तथा बीजिंग से पर्याप्त सहयोग की कमी को लेकर अमेरिका और कुछ अन्य देशों ने चिंता जतायी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत ने गुरुवार को कहा कि कोविड-19 (Coronavirus Case in India) की उत्पत्ति को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की अगुवाई में वैश्विक अध्ययन पहला महत्वपूर्ण कदम है और इस संबंध में ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिये अगले चरण के अध्ययन को लेकर सभी के सहयोग जरूरत है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने डिजिटल माध्यम से साप्ताहिक प्रेस वार्ता में यह बात कही. उन्होंने कहा, ‘‘ विश्व स्वास्थ्य संगठन के कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर वैश्विक अध्ययन का हमने स्वागत करते हुए इसे पहला महत्वपूर्ण कदम बताया है. इस बारे में आगे अध्ययन के लिये सभी के सहयोग को रेखांकित किया है. ’’

ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए आंकड़े जुटा रहा WHO

हाल ही में बागची ने अपने बयान में कहा था कि डब्ल्यूएचओ का अध्ययन इस बारे में ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने एवं आगे और आंकड़े जुटाने के लिये अगले चरण के अध्ययन की जरूरत को रेखांकित करता है.
उल्लेखनीय है कि गत मार्च में विश्व डब्ल्यूएचओ ने कोविड-19 की उत्पत्ति को लेकर चीन के वैज्ञानिकों के साथ संयुक्त रूप से लिखी गई एक रिपोर्ट जारी की जिसमें कहा गया था कि इसके किसी प्रयोगशाला में शुरू होने की संभावना ‘‘बेहद कम’’ है.

डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों द्वारा चीन में महामारी के केंद्र वुहान सहित अन्य स्थानों पर अभियान के संचालन के तौर तरीकों तथा बीजिंग से पर्याप्त सहयोग की कमी को लेकर अमेरिका और कुछ अन्य देशों ने चिंता जतायी है.

ये भी पढ़ेंः- महाराष्ट्र में 5 फेज में होगा अनलॉक, जहां 5% पॉजिटिविटी रेट, वहां मिलेगी राहतः सरकार



कोरोना की उत्तपत्ति को लेकर अध्ययन की आवश्यकता है

खबरों के अनुसार, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदहानोम गेब्रिएसस ने भी इसपर सहमति व्यक्त की है कि वायरस की उत्पत्ति को लेकर आगे और अध्ययन की आवश्यकता है. इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने देश की खुफिया एजेंसियों से घातक कोविड-19 वैश्विक महामारी के उद्भव का पता लगाने के अपने प्रयासों को और अधिक तेज करने तथा 90 दिनों के भीतर इसपर उन्हें रिपोर्ट सौंपने को कहा है.


अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ से कोरोना वायरस के संबंध में दूसरे चरण का अध्ययन करने की मांग की है. वहीं, चीन ने अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन पर कोरोना वायरस के उद्गम की दोबारा जांच कराने की मांग कर अपनी जिम्मेदारी से बचने और राजनीति करने का आरोप लगाया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज