सवर्ण आरक्षण बिल: रामगोपाल यादव बोले- सामान्‍य वर्ग को नुकसान होगा, शाह ने मुस्लिम आरक्षण याद दिलाया

(फाइल फोटो- राम गोपाल यादव)
(फाइल फोटो- राम गोपाल यादव)

पार्टी सांसद रामगोपाल यादव ने सपा की ओर से बोलते हुए वंचित वर्गों के आरक्षण का अब तक वांछित लाभ नहीं मिल पाने का हवाला दिया.

  • Share this:
सवर्ण आरक्षण बिल को राज्‍य सभा में चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी ने समर्थन दिया. हालांकि पार्टी ने बिल लाने के समय पर सवाल उठाया. पार्टी सांसद रामगोपाल यादव ने सपा की ओर से बोलते हुए वंचित वर्गों के आरक्षण का अब तक वांछित लाभ नहीं मिल पाने का हवाला दिया. उन्‍होंने निजी क्षेत्र में आरक्षण को लागू करने, पिछड़े वर्गों की आबादी में 54 प्रतिशत हिस्सेदारी को देखते हुए 54 प्रतिशत आरक्षण देने और अनुसूचित वर्गों की बढ़ी हुई आबादी के हिसाब से आरक्षण की सीमा बढ़ाने की मांग की.

चर्चा में हिस्सा लेते हुए सपा के रामगोपाल यादव ने कहा, ‘इस कानून को बनाने के लिए ना तो अतिरिक्त कोष की जरूरत थी ना ही यह धन विधेयक है. फिर सरकार को इसे पेश करने में इतना वक्त क्यों लग गया.’

यादव ने आगाह किया कि इससे सामान्य वर्ग के लोगों को लाभ होने के बजाय नुकसान होगा. उन्होंने दलील दी कि उच्चतम न्यायालय ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण की सीमा तय की है. विधेयक में प्रस्तावित आठ लाख रुपये सालाना आय की गरीबी की सीमा के मुताबिक 98 फीसदी सवर्ण आरक्षण के दायरे में होंगे. इन्हें दस प्रतिशत आरक्षण मिलेगा जबकि शेष दो प्रतिशत सवर्णों को स्वत: 40 प्रतिशत आरक्षण मिल जायेगा, यह कितना न्यायोचित है.



चर्चा में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यादव को बीच में टोकते हुए कहा कि सपा के घोषणा पत्र में मुसलमानों को आरक्षण देने की बात कही है. उन्होंने कहा कि यदि मुसलमानों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिया जाता है तो क्या शेष मुसलमानों को इससे नुकसान नहीं होगा?
इस पर यादव ने कहा कि उनकी पार्टी ने सत्ता में रहने पर इस तरह का आरक्षण देने के लिए कोई कदम नहीं उठाया.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज