ट्रेन में प्रवासियों की मौत पर बोले पूर्व ट्रायब्‍यूनल चीफ- 'एगशेल रूल' के तहत दिया जा सकता है मुआवजा

ट्रेन में प्रवासियों की मौत पर बोले पूर्व ट्रायब्‍यूनल चीफ- 'एगशेल रूल' के तहत दिया जा सकता है मुआवजा
रेलवे कल से 200 ट्रेनों की शुरुआत करने जा रहा है. (फाइल फोटो)

जस्टिस के कन्नन ने कहा ट्रेन में सिर्फ बीमारी से मौत के चलते किसी को मुआवजा नहीं दिया जा सकता है. ऐसे हालात में 'एगशेल रूल' के हिसाब से मुआवजा दिया जा सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को स्पेशल श्रमिक ट्रेनों से उनके घर भेजा जा रहा है. रेलवे सुरक्षा बल (RPF) के मुताबिक, यात्रा के दौरान अब तक करीब 80 प्रवासियों की मौत हो गई. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या प्रवासियों को इसका मुआवाजा (Compensation) दिया जाएगा. रेलवे के पूर्व ट्रायब्‍यूनल चीफ जस्टिस के कन्नन के मुताबिक मरने वाले प्रवासियों को 'एगशेल रूल' के तहत मुआवजा दिया जा सकता है.

क्या है मुआवजा मिलने का नियम?
बता दें कि आमतौर पर ट्रेन में किसी हादसे के बाद यात्रियों को मुआवजा दिया जाता है. जस्टिस के कन्नन ने रेलवे क्लेम्स ट्रायब्‍यूनल (RCT) के 2018 के एक फैसले का ज़िक्र करते हुए कहा कि ट्रेन के अपर बर्थ से गिरने के बाद एक पैसेंजर की मौत हो गई थी. जिसके बाद उनके परिवार वालों को 8 लाख रुपये का मुआवजा दिया गया था. उन्होंने कहा कि ट्रेन में सिर्फ बीमारी से मौत के चलते किसी को मुआवजा नहीं दिया जा सकता है. ऐसे हालात में 'एगशेल रूल' के हिसाब से मुआवजा दिया जा सकता है. बता दें कि जस्टिस कन्नन एक साल पहले तक ट्रायब्‍यूनल के चीफ थे.

क्या है एगशेल रूल?



'एगशेल रूल' को समझाते हुए कन्नन ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'इसके तहत वो लोग आते हैं जो पहले से बीमार रहते हैं. ऐसे लोगों की अगर ट्रेन में मौत हो जाए तो उन्हें मुआवजा दिया जाता है. यानी अगर कोई स्वस्थ आदमी गिर जाए तो उन्हें कुछ नहीं होगा, लेकिन एक बीमार आदमी की मौत हो सकती है. रेलवे के नियमों के हिसाब से कोई भी शख्स घायल होने या मौत पर मुआवजा ले सकता है.



साल 2018 का वो फैसला
न्यायमूर्ति कन्नन ने कहा कि ट्रिब्यूनल ने इससे पहले यात्री की मौत को लेकर खुद संज्ञान लिया है और मुआवजे भी देने को कहा. साल 2018 अशोक रे नाम के एक शख्स आम्रपाली एक्सप्रेस से लुधियाना से छपरा जा रही थे. वो अपनी बर्थ से नीचे गिर गए और चोट के चलते उनकी मौत हो गई. रेलवे ने मुआवजा देने से इनकार कर दिया. कोर्ट ने बाद में 8 लाख रुपये मुआवजा देने को कहा.

मौत पर क्या कहा रेलवे ने?
रेलवे ने मौत को लेकर बयान जारी किया है, जिसमें कहा गया कि पहले से ही किसी बीमारी से जूझ रहे लोगों की श्रमिक ट्रेनों में मौत के कुछ दुर्भाग्यपूर्ण मामले सामने आए हैं. ऐसा देखा गया है कि पहले से ही किसी बीमारी से जूझ रहे कुछ लोग श्रमिक ट्रेनों में यात्रा कर रहे हैं, जिससे कोविड-19 संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. साथ ही ये भी कहा गया कि कई लोग इलाज करने के लिए शहर गए थे.

ये भी पढ़ें:

महाराष्ट्र पुलिस पर कोरोना अटैक, 24 घंटे में 91 पुलिसकर्मी हुए संक्रमित

बिहार में लागू हुआ Lockdown 5.0, लोगों को मिलेंगी ये 10 रियायतें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading