10वीं, 12वीं के बच्चों की एग्जाम फीस होगी वापस! दिल्ली HC ने CBSE को दिया सोचने का समय

दिल्‍ली हाईकोर्ट, फाइल फोटो

न्यायमूर्ति प्रतीक जालान ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) को इससे संबद्ध एक स्कूल में दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा की मां दीपा जोसेफ की याचिका पर विचार करने का आदेश दिया जिसने परीक्षा शुल्क के रूप में 2100 रुपये का भुगतान किया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने दसवीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाओं के उद्देश्य से लिया गया परीक्षा शुल्क (Exam Fees Return) छात्रों को लौटाने पर फैसला करने के लिए सीबीएसई को आठ सप्ताह का समय दिया है क्योंकि कोविड महामारी के कारण ये परीक्षायें रद्द कर दी गयी थीं. न्यायमूर्ति प्रतीक जालान ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) को इससे संबद्ध एक स्कूल में दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा की मां दीपा जोसेफ की याचिका पर विचार करने का आदेश दिया जिसने परीक्षा शुल्क के रूप में 2100 रुपये का भुगतान किया है.

    अदालत ने याचिका का निपटारा करते हुए स्पष्ट किया कि अगर जोसेफ संतुष्ट नहीं होती हैं तो सीबीएसई के फैसले को चुनौती दी जा सकती है. न्यायाधीश ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच स्पष्टता होनी चाहिए. न्यायमूर्ति जालान ने यह भी रेखांकित किया कि याचिका पर सुनवाई करने में दोनों पक्षों को कोई आपत्ति नहीं है, भले ही उनका बेटा 12वीं कक्षा में पढ़ता है और वह याचिका के लाभार्थी होंगे.

    क्या बोले याचिकाकर्ता के वकील
    अदालत में जोसेफ के अधिवक्ता रॉबिन राजू ने कहा कि चूंकि बोर्ड परीक्षायें रद्द कर दी गयी हैं, तो परीक्षा का शुल्क का कुछ हिस्सा छात्रों को लौटाया जाना चाहिए. राजू ने दावा किया कि बोर्ड परीक्षा आयोजित करने में सीबीएसई का खर्च और इस प्रक्रिया में इसकी भूमिका कम हुई है. राजू ने कहा कि स्कूलों ने अंक अपलोड किया है. अदालत ने हालांकि, राजू से असहमति जताते हुए टिप्पणी की, ‘‘अगर सीबीएसई कुछ नहीं कर रहा है, तो आप स्कूलों से अंक पत्र ले लो और जाओ.’

    क्या बोले सीबीएसई के वकील
    सीबीएसई की ओर से अदालत में अधिवक्ता रूपेश कुमार ने कहा कि सीबीएसई एक स्व-वित्तपोषित निकाय है और इसका खर्च मुख्य रूप से दसवीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों से एकत्रित परीक्षा शुल्क से वहन किया जाता है. कुमार ने कहा कि बोर्ड परीक्षाओं के प्रत्यक्ष संचालन और छात्रों से लिए गए शुल्क के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.