होम /न्यूज /राष्ट्र /

Exclusive: जिहाद से बम बनाने तक 'नदीम' को मिले थे ये काम, इस अहम सुराग से जांच एजेंसियों ने पकड़ा

Exclusive: जिहाद से बम बनाने तक 'नदीम' को मिले थे ये काम, इस अहम सुराग से जांच एजेंसियों ने पकड़ा

आतंकी नदीम ने स्वीकार किया है कि पाकिस्तानी आतंकियों के संपर्क में था.

आतंकी नदीम ने स्वीकार किया है कि पाकिस्तानी आतंकियों के संपर्क में था.

UP ATS Arrest Terrorist: टॉप इंटेलीजेंस सूत्रों ने CNN-News18 को यह जानकारी दी कि, सहारनपुर का रहने वाला मोहम्मद नदीम, पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से व्हाट्सएप के जरिए संपर्क में रहता था और उससे अन्य युवाओं को आतंकवादी संगठन में भर्ती कराने के लिए कहा जाता था. मोहम्मद नदीम को उसके डिजिटल फॉरेंसिक डाटा की मदद से पकड़ा गया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

मोहम्मद नदीम को उसके डिजिटल फॉरेंसिक डाटा की मदद से पकड़ा
सोशल मीडिया साइट्स पर अलग-अलग आईडी से था सक्रिय
पाकिस्तान स्थित आतंकियों से मिला था और युवाओं को भर्ती करने का निर्देश

नई दिल्ली: जैश-ए-मोहम्मद के जिस कथित आतंकी मोहम्मद नदीम को उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) ने 75वें स्वतंत्रता दिवस से पहले सहारनपुर से गिरफ्तार किया है. वह पाकिस्तान के आतंकवादियों के संपर्क में था. टॉप इंटेलीजेंस सूत्रों ने CNN-News18 को यह जानकारी दी है. सूत्रों के मुताबिक सहारनपुर के कुंदनदेहेड़ा का रहने वाला नदीम, पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से व्हाट्सएप के जरिए संपर्क में रहता था और उससे अन्य युवाओं को आतंकवादी संगठन में भर्ती कराने के लिए कहा जाता था. मोहम्मद नदीम को उसके डिजिटल फॉरेंसिक डाटा की मदद से पकड़ा गया है.

सूत्रों के अनुसार, नदीम फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यू-ट्यूब और टेलीग्राम पर एक्टिव रहता था. डिजिटल फोरेंसिक डेटा में पाया गया कि वह अपनी आईड – गुमनाम हमसफर और मेदिमराव के माध्यम से फेसबुक पर सक्रिय था. इंस्टाग्राम पर वह alibhal_999 पर और ट्विटर पर @inshadnnadeem, @innocent313313 के जरिए एक्टिव था. वहीं यूट्यूब पर उसकी आईडी बासितखान के नाम से थी.

इसके अलावा मोहम्मद नदीम व्हाट्सएप पर भारत और यूरोप के अलग-अलग नंबर्स के जरिए एक्टिव था. वहीं टेलीग्राम पर वह Bagi और shssdjdnd नाम से एक्टिव था. पूछताछ में उसने कबूल किया कि उसे ‘राह-ए-हिदायत’ में शामिल होने का लिंक बिहार के एक ग्रुप के जरिए टेलीग्राम पर मिला था. यह समूह जिहादी सामग्री और भड़काऊ तस्वीरें पोस्ट करता था.

पाकिस्तानी आतंकियों के संपर्क में रहता था नदीम

सूत्रों ने बताया कि भारत के सैफुल्ला ने नदीम को पाकिस्तान में सैफुल्ला नाम के एक अन्य व्यक्ति से मिलवाया और उससे कहा कि वे जिहाद के लिए काम कर रहे हैं. चैटिंग ऐप्स पर वह पाकिस्तान में सैफुल्ला के संपर्क में था और उसे सोशल मीडिया के जरिए और लोगों को जोड़ने के लिए कहा गया था. तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का कमांडर होने का दावा करने वाले सैफुल्ला ने नदीम से भारत में हथियारों और बंदूकों की व्यवस्था करने को कहा. सूत्रों ने बताया कि नदीम से कहा गया था कि वह खुद ही फंड ले ले और पैसा बाद में उसे भेज दे.

पाकिस्तानी आतंकवादी ने नदीम को बालाकोट में रमिज़ और टीटीपी के एक अन्य सदस्य अब्दुल्ला से भी मिलवाया. वे उससे रोज बात करते थे. उन्होंने नदीम को रासायनिक विस्फोटक, डेटोनेटर और टाइम फ्यूज का पता लगाने के लिए कहा और उसे बम विस्फोटों पर 70-पृष्ठ की पीडीएफ फाइल भी भेजी.

Tags: Terrorist, UP ATS

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर