लाइव टीवी

EXCLUSIVE: पाक के झूठ का पर्दाफाश, बहावलपुर में मिले जैश की प्रॉपर्टी के सबूत

News18Hindi
Updated: March 2, 2019, 10:48 AM IST
EXCLUSIVE: पाक के झूठ का पर्दाफाश, बहावलपुर में मिले जैश की प्रॉपर्टी के सबूत
मसूद अज़हर

फर्स्टपोस्ट की तफ्तीश में ऐसे सबूत मिले हैं, जिनसे पाकिस्तान का झूठ बेनकाब होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 2, 2019, 10:48 AM IST
  • Share this:
पाकिस्तानी ज़मीन में मौजूद आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर भारत की एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के झूठ का पर्दाफाश हो गया है. पाकिस्तान के बहावलपुर के डिप्टी कमिश्नर शाहज़ैब सईद ने इससे पहले पत्रकारों के एक समूह के सामने कहा था, 'जिस जगह पर हमला किया गया, वो एक मामूली मदरसा था जिसका जैश ए मोहम्मद से कोई लेना-देना नहीं था. करीब 600 तालिब यानी विद्यार्थी यहां पढ़ते हैं और उनमें से कोई भी न तो इस प्रतिबंधित संगठन के साथ जुड़ा था और न ही किसी आतंकी गतिविधि में शामिल था.'

READ: अभिनंदन ने निगल लिए थे नक्शे व दस्तावेज

इसके बाद पाकिस्तान के सूचना प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने भी इस झूठ का समर्थन करते हुए कहा था-

ये एक मदरसा था और भारत झूठा प्रचार कर रहा है कि ये जैश ए मोहम्मद का हेडक्वार्टर था, जिस पर हमला किया गया.


हालांकि पाकिस्तान के इस झूठ का अब पर्दाफाश हो चुका है. फर्स्टपोस्ट की एक एक्सक्लूसिव तफ्तीश में फर्स्टपोस्ट के हाथ जो सबूत लगे हैं, उससे साफ ​ज़ाहिर है कि पाकिस्तान झूठ बोल रहा था और भारत ने बीती 27 फरवरी को एयर स्ट्राइक के दौरान जहां हमला किया था, वो जैश ए मोहम्मद का ही ठिकाना था.

ये हैं वो पुख्ता सबूत
26 नवंबर 2008 को मुंबई हमलों के कुछ ही महीनों बाद 2009 में ये ज़मीन जैश के सरगनाओं ने खरीदी थी. जैश के मुखिया और घोषित आतंकवादी मसूद अज़हर का भाई अब्दुल रऊफ रशीद अल्वी जिसे रऊफ के नाम से जाना जाता है, इस प्रॉपर्टी का मालिक था. रऊफ 2009 में रऊफ पाकिस्तान के बहावलपुर के एक सरकारी दफ्तर में पहुंचा था और उसने ये नौ एकड़ ज़मीन अपने नाम रजिस्टर करवाई थी. इसके साथ ही बहावलपुा-कराची हाईवे पर उसने एक फार्मलैंड भी खरीदी थी.उस साल 23 मार्च को एक स्थानीय व्यक्ति अहमद नईम ने रऊफ और उसके साथी राशिद अहमद को 7.6 लाख रुपयों में ये ज़मीन बेची थी. इस डील के कागज़ात फर्स्टपोस्ट ने अपने पास होने का दावा करते हुए इस तफ्तीश से साबित किया है कि जिस जगह हमला किया गया, वह जैश की ही प्रॉपर्टी थी. इस तफ्तीश में यह भी पता चला कि उस साल के बाद से लगातार जैश की प्रॉपर्टी में इज़ाफा हुआ और शहर के बाहरी इलाके में इतनी बड़ी जगह जैश के कब्ज़े में थी जहां 12 हज़ार छात्र जुट सकते थे, खेल सकते थे और प्रार्थना सभाएं हो सकती थीं.

पाक के झूठ का एक और सबूत
27 फरवरी को पाकिस्तान के खैबर पख़्तून इलाके में स्थित जिहादी ट्रेनिंग कैंप पर भारत की एयर स्ट्राइक के बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय सहयोग के साथ दबाव बनाना शुरू किया कि पाकिस्तान जैश की गतिविधियों पर रोक लगाने के कारगर उपाय करे. इंटेलिजेंस सूत्रों के हवाले से फर्स्टपोस्ट ने लिखा है कि 28 फरवरी को मसूद अज़हर के भाई रऊफ ने खैबर पख़्तून इलाके में जैश की एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत ने बदले की भावना से 'हमारे हेडक्वार्टर' पर हमला किया.

गौरतलब है कि आज यानी 1 मार्च को ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मेहमूद कुरैशी ने भी एक बयान देते हुए ये कबूल कर लिया कि मसूद अज़हर की सेहत बेहद खराब है और वह बिस्तर से उठ भी नहीं सकता. कुरैशी ने यह भी कहा कि भारत अगर एयर स्ट्राइक और जैश से संबंधित कार्रवाई के पुख्ता सबूत दे, तो पाकिस्तान जैश के खिलाफ कार्रवाई करने पर विचार करेगा. इस बयान के बाद माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने कबूल कर लिया है कि उसकी ज़मीन पर जैश की आतंकी गतिविधियां चल रही थीं, जिनके बारे में वह पहले इनकार करता रहा.

ये भी पढ़ें- 

Air strike: 3 भारत लौटने के बाद अभिनंदन के साथ सख़्त पूछताछ होगी! कई टेस्ट होंगे'
अभिनंदन ने तालाब में लगाई थी छलांग और निगल लिये थे नक्शे व दस्तावेज़ : रिपोर्ट
'87% पाकिस्तानी ज़मीन भारत की नज़र में, एयर स्ट्राइक के लिए इसरो ने दी थीं तस्वीरें'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 1, 2019, 3:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर